नहीं रहीं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, 81 साल की उम्र में निधन

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन हो गया। पूर्व सीएम की मौत से पार्टी में शोक की लहर है। कांग्रेस ने शीला दीक्षित के निधन पर शोक प्रकट किया है। दिल का दौरा पड़ने की वजह से आज दोपहर 3 बजकर 55 मिनट उनका निधन हुआ। शीला दीक्षित के निधन के बाद उनके आवास पर बड़ी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता पहुंच रहे हैं। वह पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहीं थी और अस्पताल में भी भर्ती थीं।

0
Former Delhi Chief Minister Sheila Dikshit, passed away at the age of 81, will be tomorrow's funeral

 



  • दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 साल की उम्र में निधन

  • 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित
  • आज शाम 6 बजे निजामुद्दीन स्थित आवास पर रखा जाएगा पार्थिव शरीर
  • रविवार को दोपहर ढाई बजे निगमबोध घाट पर होगा अंतिम संस्कार

 

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन हो गया। पूर्व सीएम की मौत से पार्टी में शोक की लहर है। कांग्रेस ने शीला दीक्षित के निधन पर शोक प्रकट किया है। दिल का दौरा पड़ने की वजह से आज दोपहर 3 बजकर 55 मिनट उनका निधन हुआ। शीला दीक्षित के निधन के बाद उनके आवास पर बड़ी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता पहुंच रहे हैं। वह पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहीं थी और अस्पताल में भी भर्ती थीं।

शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च, 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। शीला दीक्षित ने दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस से इतिहास में मास्टर डिग्री हासिल की थी। उनका विवाह उन्नाव (यूपी) के आईएएस अधिकारी स्वर्गीय विनोद दीक्षित से हुआ था। विनोद कांग्रेस के बड़े नेता और बंगाल के पूर्व राज्यपाल स्वर्गीय उमाशंकर दीक्षित के बेटे थे। शीलाजी एक बेटे और एक बेटी हैं। उनके बेटे संदीप दीक्षित भी दिल्ली के सांसद रह चुके हैं।

शीला दीक्षित अपनी काम की बदौलत कांग्रेस पार्टी में थी। सोनिया गांधी के सामने भी शीला दीक्षित की एक अच्छी छवि बनी और यही वजह है कि राजीव गांधी के बाद सोनिया गांधी ने उन्हें खासा महत्व दिया था। साल 1998 में शीला दीक्षित दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष बनाई गईं थी। 1998 में ही लोकसभा चुनाव में शीला दीक्षित कांग्रेस के टिकट पर पूर्वी दिल्ली से चुनाव लड़ीं, मगर जीत नहीं पाईं थी। दिल्ली विधानसभा चुनाव में उन्होंने न सिर्फ जीत दर्ज की, बल्कि तीन-तीन बार मुख्यमंत्री भी रहीं।

दिल्ली देश की राजधानी है और शीला दीक्षित के कार्यकाल में ही दिल्ली में कॉमनवेल्थ गेम्स भी आयोजित हुए थे। यही नहीं उन्हीं के कार्यकाल में दिल्ली को उसकी विश्वस्तरीय मेट्रो रेल का तोहफा भी मिला। उनके कार्यकाल में ही दिल्ली में दर्जनों फ्लाइओवर बने और दिल्ली की परिवहन व्यवस्था सुधरी। कहा जा सकता है कि शीला दीक्षित ने अपने कार्यकाल के दौरान दिल्ली का चेहरा बदल दिया।



 

Summary
Article Name
Former Delhi Chief Minister Sheila Dikshit, passed away at the age of 81, will be tomorrow's funeral
Description
दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन हो गया। पूर्व सीएम की मौत से पार्टी में शोक की लहर है। कांग्रेस ने शीला दीक्षित के निधन पर शोक प्रकट किया है। दिल का दौरा पड़ने की वजह से आज दोपहर 3 बजकर 55 मिनट उनका निधन हुआ। शीला दीक्षित के निधन के बाद उनके आवास पर बड़ी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता पहुंच रहे हैं। वह पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहीं थी और अस्पताल में भी भर्ती थीं।
Author
Publisher Name
The Policy Times