मेट्रों रेल नेटवर्क बढ़ाने की बजाए बसों की संख्या बढ़ानी ज़रूरी…भारत में 10 हज़ार लोगों पर केवल 4 बसें

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में 19 लाख बसें हैं लेकिन उनमें से केवल 2.8 लाख ही सड़कों पर दौड़ रही हैं। सरकारी आकड़ों के अनुसार 125 करोड़ की आबादी वाले देश में अभी कुल 19 लाख बसें मौजूद हैं। भारत में 10 हजार लोगों पर केवल 4 बसें ही है।

0
instead-of-matro-railway-india-needs-more-busses-for-public-transport
209 Views

किसी भी देश में यातायात व्यवस्था के लिए ज़रुरी है परिवहन व्यवस्था ठीक का होना। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में 19 लाख बसें हैं लेकिन उनमें से केवल 2.8 लाख ही सड़कों पर दौड़ रही हैं।

सरकारी आकड़ों के अनुसार 125 करोड़ की आबादी वाले देश में अभी कुल 19 लाख बसें मौजूद हैं। जिसमें से राज्य परिवहन निगम केवल 2.8 लाख बसों का संचालन करता है। इस मामलें में केंद्रीय परिवहन सचिव वाई.एस मलिक ने बताया, ”हमें यात्रियों की जरूरतों को पूरी करने के लिए 30 लाख बसों की जरूरत है.”

10 हजार लोगों पर केवल 4 बसें

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि चीन में 1 हज़ार लोगों पर 6 बसों की व्यवस्था है जबकि भारत में 10 हज़ार लोगों पर केवल 4 बसें ही है। आगे उन्होंने बताया कि देश में 90 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जिनके पास अपना खुद का कोई वाहन नहीं है। खुद का वाहन न होने के कारण ऐसे लोगों को पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करना होता है। नितिन गडकरी ने कहा कि ऐसे में पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सुधार करने की ज़रूरत है |

मेट्रों रेल नेटवर्क बढ़ाने की बजाए बसों की संख्या बढ़ानी ज़रूरी

शहरी परिवहन क्षेत्र के विशेषज्ञों का कहना है कि मेट्रो रेल के नेटवर्क बढ़ाने की बजाए बसों की संख्या बढ़ानी ज़रूरी है। लंदन में

रेल नेटवर्क कम है लेकिन अधिकतर लोग बसों से सफर करतें हैं। लंदन में 317 लाख यात्रियों में से 67 लाख बसों में सफर करते हैं।

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि ई-वाहनों को बढ़ाने के लिए नियाम कीय बाधाएं हटा दी जाएंगी| उन्होनें प्रस्ताव दिया कि प्रमुख वाहन विनिर्माता कंपनियां टाटा मोटर्स और अशोक लेलैंड लंदन के परिवहन मॉडल की तर्ज पर ऑपरेटर कंपनी बना सकती हैं।

Summary
मेट्रों रेल नेटवर्क बढ़ाने की बजाए बसों की संख्या बढ़ानी ज़रूरी...भारत में 10 हज़ार लोगों पर केवल 4 बसें
Article Name
मेट्रों रेल नेटवर्क बढ़ाने की बजाए बसों की संख्या बढ़ानी ज़रूरी...भारत में 10 हज़ार लोगों पर केवल 4 बसें
Description
सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में 19 लाख बसें हैं लेकिन उनमें से केवल 2.8 लाख ही सड़कों पर दौड़ रही हैं। सरकारी आकड़ों के अनुसार 125 करोड़ की आबादी वाले देश में अभी कुल 19 लाख बसें मौजूद हैं। भारत में 10 हजार लोगों पर केवल 4 बसें ही है।
Author
Publisher Name
The Policy Times
Publisher Logo