जवाहरलाल नेहरु की 129वीं जयंती आज, देश ने दी श्रद्धांजलि

आज देशभर में बाल दिवस यानी ‘चिल्ड्रेन डे’ उत्साह के साथ मनाया जा रहा है| भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु की याद में आज के दिन को ख़ास मानाने के लिए देश के हर कोने में रंगारंग कार्यक्रम होता है| साथ ही आज यानी चिल्ड्रेन डे के अवसर पर स्कूलों में भी बच्चो के लिए ख़ास कार्यक्रम, मेलों व प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है|

0
169 Views

आज देशभर में बाल दिवस यानी ‘चिल्ड्रेन डे’ उत्साह के साथ मनाया जा रहा है| भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु की याद में आज के दिन को ख़ास मानाने के लिए देश के हर कोने में रंगारंग कार्यक्रम होता है| साथ ही आज यानी चिल्ड्रेन डे के अवसर पर स्कूलों में भी बच्चो के लिए ख़ास कार्यक्रम, मेलों व प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है|

14 नवंबर 1889 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में जन्मे जवाहरलाल नेहरू को बच्चों से खासा लगाव था और बच्चे उन्हें ‘चाचा नेहरू’ कहकर पुकारते थे| नेहरू बच्चों को देश का भविष्य बताते थे| वो कहते थे कि ये जरूरी है कि बच्चों को प्यार दिया जाए, उनकी देखभल की जाए ताकि वे अपने पैरों पर खड़े हो सकें|

देश ने जवाहरलाल नेहरु को श्रद्धांजलि दी

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु की 129वीं जयंती के अवसर पर देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत कई अन्य राजनेताओं ने पंडित नेहरु को श्रद्धांजलि अर्पित की| पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा कि आजादी की लड़ाई में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है| वहीँ, कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने बुधवार को पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती पर उनकी समाधि शांतिवन जाकर श्रद्धासुमन अर्पित किए| इसके साथ-साथ इस खास दिन को गूगल ने भी अपने अंदाज में सेलिब्रेट किया है| उसने डूडल (Doodle) बनाकर बच्चों को बाल दिवस की बधाई दी और सबके प्रिय चाचा नेहरू को याद किया|

पहले 20 नवंबर को मनाया जाता था बाल दिवस

भारत में 1964 से पहले तक बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था लेकिन जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद उनके जन्मदिन यानी 14 नवंबर को बाल दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया गया| 27 मई 1964 में प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद सर्वसहमति से ये फैसला लिया गया कि जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के तौर पर माना जाए| इस तरह से भारत को दुनिया से अलग अपना एक बाल दिवस मिला| इससे पहले 1954 में संयुक्त राष्ट्र ने 20 नवंबर को बाल दिवस के तौर पर मनाने का ऐलान किया था| यही वजह है कि आज भी कई देशों में 20 नवंबर को ही बाल दिवस मनया जाता है जबकि कई देश ऐसे भी हैं जो 1 जून को बाल दिवस मनाते हैं|

आधुनिक भारत के जनक पंडित नेहरु

पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म एक रुतबा रखने वाले परिवार में हुआ था| नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू एक रुतबेदार वकील थे| साथ ही वे इंडियन नेशनल कांग्रेस के लीडर भी रहे| जवाहरलाल नेहरू बचपन से ही पढ़ने-लिखने में होशियार थे| पंडित जवाहरलाल नेहरू का शुरुआती जीवन इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) में ही गुजरा| वे बचपन से ही प्रतिभाशाली थे| 15 वर्ष की उम्र में नेहरू पढ़ने के लिए इंग्लैंड के हैरो स्कूल भेजे गए|

1919 और 1920 में मोतीलाल नेहरू कांग्रेस के अध्यक्ष बने| 1919 में पंडित जवाहरलाल नेहरू महात्मा गांधी के साथ आ गए| वे गांधी जी के साथ कई जगहों पर गए| प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने नवीन भारत के सपने को साकार करने की कोशिश की| भारत की आजादी की लड़ाई की एक बड़ी घटना 1919 के जलियांवाला बाग हत्याकांड के बाद पंडित नेहरू ने भारतीय राजनीति को दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई| पंडित जवाहरलाल नेहरू अपने देश की आजादी के उपरान्त 9 बार जेल गए थे|

साल 1947 में भारत को आजादी मिलने पर वे स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री बने| संसदीय सरकार की स्थापना और विदेशी मामलों गुटनिरपेक्ष नीतियों की शुरुआत जवाहरलाल नेहरू की ओर से हुई थी| इसके अलवा पंडित नेहरू को 11 बार नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया गया|

पंडित नेहरू ने अपनी वसीयत में लिखा था, ‘मैं चाहता हूं कि मेरी मुट्ठीभर राख प्रयाग के संगम में बहा दी जाए जो हिन्दुस्तान के दामन को चूमते हुए समंदर में जा मिले लेकिन मेरी राख का ज्यादा हिस्सा हवाई जहाज से ऊपर ले जाकर खेतों में बिखरा दिया जाए, वो खेत जहां हजारों मेहनतकश इंसान काम में लगे हैं ताकि मेरे वजूद का हर जर्रा वतन की खाक में मिलकर एक हो जाए’|

 

Summary
Description
आज देशभर में बाल दिवस यानी ‘चिल्ड्रेन डे’ उत्साह के साथ मनाया जा रहा है| भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु की याद में आज के दिन को ख़ास मानाने के लिए देश के हर कोने में रंगारंग कार्यक्रम होता है| साथ ही आज यानी चिल्ड्रेन डे के अवसर पर स्कूलों में भी बच्चो के लिए ख़ास कार्यक्रम, मेलों व प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है|
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo