लंकेश और दाभोलकर हत्या एक ही पिस्तौल से, सीबीआई सभी मामलों की जाँच कर सकती है: सुप्रीम कोर्ट

सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पानसरे, पत्रकार गौरी लंकेश और तर्कवादी एम.एम. कलबुर्गी की हत्या केस की जांच पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा कि यदि इन चारों ही हत्या में एक लिंक है तो एक ही एजेंसी सभी हत्याकांड की जांच कर सकती है।

0
Lankesh and Dabholkar murdered by a single pistol, CBI can investigate all cases: Supreme Court
170 Views

सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पानसरे, पत्रकार गौरी लंकेश और तर्कवादी एम.एम. कलबुर्गी की हत्या केस की जांच पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा कि यदि इन चारों ही हत्या में एक लिंक है तो एक ही एजेंसी सभी हत्याकांड की जांच कर सकती है।

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि यदि सामाजिक कार्यकर्ताओं नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पानसरे, पत्रकार गौरी लंकेश और तर्कवादी एम.एम कलबुर्गी की हत्या के मामले में ‘समानता’ है तो एक एजेन्सी चारों मामलों की जांच कर सकती है। जस्टिस उदय यू ललित और जस्टिस नवीन सिन्हा की पीठ ने केन्द्रीय जांच ब्यूरो को जनवरी के पहले सप्ताह में इस संबंध में जानकारी देने का निर्देश दिया।

कोर्ट ने यह सूचित करने का निर्देश दिया कि यदि इन सभी में एक समानता नजर आती है तो उसे सभी मामलों की जांच क्यों नहीं करनी चाहिए। महाराष्ट्र सरकार के वकील ने पीठ को सूचित किया कि सीबीआई सामाजिक कार्यकर्ता और प्रोफेसर नरेन्द्र दाभोलकर की हत्या के मामले की जंच कर रही है। इस मामले की जांच बॉम्बे हाई कोर्ट ने जांच एजेन्सी को हस्तांतरित की थी। इस बीच, न्यायालय ने कर्नाटक पुलिस की प्रगति रिपोर्ट देखने के बाद कहा कि ऐसा लगता है कि पत्रकार गौरी लंकेश और तर्कवादी कलबुर्गी की हत्याओं के बीच संबंध है।

पीठ ने महाराष्ट्र सरकार से पानसरे हत्याकांड की जांच की प्रगति के बारे में पूछा तो उसके वकील ने कहा कि यह मामला कोल्हापुर की अदालत में लंबित है। इससे पहले दिन में कर्नाटक पुलिस ने न्यायालय को सूचित किया था कि पत्रकार गौरी लंकेश और तर्कवादी एमएम कलबुर्गी की हत्या के मामलों के बीच कुछ संबंध प्रतीत होता है। राज्य की पुलिस ने शीर्ष अदालत को यह भी बताया कि कलबुर्गी की हत्या मामले में वह तीन महीने के भीतर आरोप पत्र पेश करेगी।

इससे पहले 26 नवंबर को शीर्ष अदालत ने कर्नाटक सरकार की खिंचाई की थी और कहा था कि वह जांच में कुछ नहीं, बस, दिखावा कर रही है। साथ ही न्यायालय ने संकेत दिया था कि वह मामले को बॉम्बे उच्च न्यायालय स्थानांतरित कर सकती है।

प्रख्तात शिक्षाविद और तर्कवादी कलबुर्गी की 30 अगस्त, 2015 को धारवाड़ में हत्या कर दी गई थी जबकि सामाजिक कार्यकर्ता पानसरे की भी उसी साल 16 फरवरी को हत्या की गई थी। पत्रकार गौरी लंकेश की पांच सितंबर, 2017 को बेंगलुरु में हत्या की गई जबकि एक अन्य सामाजिक कार्यकर्ता और तर्कवादी दाभोलकर की 20 अगस्त, 2013 को हत्या की गयी थी।

Summary
Lankesh and Dabholkar murdered by a single pistol, CBI can investigate all cases: Supreme Court
Article Name
Lankesh and Dabholkar murdered by a single pistol, CBI can investigate all cases: Supreme Court
Description
सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर, गोविंद पानसरे, पत्रकार गौरी लंकेश और तर्कवादी एम.एम. कलबुर्गी की हत्या केस की जांच पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा कि यदि इन चारों ही हत्या में एक लिंक है तो एक ही एजेंसी सभी हत्याकांड की जांच कर सकती है।
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo