लोकसभा चुनाव 2019: इस बार कम रही वोटिंग दर, जानिए किस सरकार की ओर है आम जनता का रुझान

सत्रहवीं लोकसभा चुनाव का पहला चरण संपन्न हो गया| देश के 18 राज्यों और दो केंद्र प्रशासित प्रदेशों की 91 सीटों पर कल 11 अप्रैल को मतदान हुआ| चुनाव आयोग के द्वारा लोकसभा चुनाव के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किए गए थे मगर कुछ राज्यों में छिटपुट घटनाओं की होने की खबर भी मिली|

0
104 Views

सत्रहवीं लोकसभा चुनाव का पहला चरण संपन्न हो गया| देश के 18 राज्यों और दो केंद्र प्रशासित प्रदेशों की 91 सीटों पर कल 11 अप्रैल को मतदान हुआ| चुनाव आयोग के द्वारा लोकसभा चुनाव के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किए गए थे मगर कुछ राज्यों में छिटपुट घटनाओं की होने की खबर भी मिली|

मालुम हो, भारत का यह आम चुनाव 11 अप्रैल से शुरू हुआ है और 19 मई को आख़िरी चरण का मतदान है| 23 मई को वोटों की गिनती है| यह पूरी प्रक्रिया 39 दिनों तक चलेगी|

Related Article:लोकसभा चुनाव के पहले चरण एवं चार राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग शुरू

इस बार कम रही वोटिंग दर

चुनाव आयोग के आंकडें बताते है कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव की तुलना में इस बार के लोकसभा चुनाव में मतदान कम हुए| रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में इस बार 64% मतदान हुआ जबकि 2014 में 66 प्रतिशत था| इसके साथ ही उत्तराखंड में 57%- 62%, बिहार में 50%-52%, आंध्र प्रदेश में 66%-79%, तेलंगाना में 60%-69%, जम्मू-कश्मीर में 54%-57%, छत्तीसगढ़ में 56%-60, पश्चिम बंगाल में 81%-82%, असम में 68%-79%, सिक्किम में 69%-83%, मिज़ोरम में 60%-62%, नागालैंड में 78%-88%, मणिपुर में 78.2%-84%, त्रिपुरा में 81%-86% और अंडमान निकोबार में 71%-71% मतदान हुआ| आकलन करें तो उत्तर-पूर्वी के राज्यों में मतदान का दर सबसे अधिक घटा है| इसके साथ ही दक्षिण राज्यों में आँध्रप्रदेश में मतदान में अधिक गिरावट देखी गई|

वोटिंग के दौरान हिंसक झड़प

लोकसभा चुनाव के मतदान के दौरान कुछ राज्यों में हिंसक झड़प होने की खबर सामने आई है| आंध्र प्रदेश में मतदान के दौरान दो राजनीतिक पार्टियों के समर्थकों के बीच हिंसक झड़प हो गई जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई| इस घटना में चार अन्य लोग भी ज़ख़्मी हुए है| गुंटुर ज़िले में भी हिंसक झड़प हुई जहाँ आंध्र प्रदेश में लोकसभा की 25 सीटों पर मतदान हुआ| वहीँ, पश्चिम बंगाल में भी हिंसक घटना की खबर आई जिसमें बीजेपी ने आरोप लगाया कि सत्ताधारी पार्टी टीएमसी के समर्थकों ने उनके समर्थकों पर हमला बोला| मगर टीएमसी ने इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया|

इसके साथ ही एएनआई के जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र से भी छिटपुट घटना की खबर मिली जिसमें गढ़चिरोली जिले के एटापल्ली में पोलिंग बूथ के पास नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट किया| वहीँ, छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में भी पुल्लिंग बूथ के पास बारूदी सुरंग में विस्फोट किया गया| यहाँ से किसी के हताहत होने की खबर नहीं है| इसके साथ ही पश्चमी उत्तरप्रदेश, कैराना लोकसभा क्षेत्र के शामली में गुरुवार पहले चरण की वोटिंग के दौरान पोलिंग बूथ पर फायरिंग हुई|

किसकी आएगी सरकार, क्या है लोगों का रुझान?

इस बार लोकसभा चुनाव में कौन सी सरकार सत्ता में आएगी और किस राजनितिक पार्टी की जीत होगी, इसे लेकर आम जनता और राजनितिक विश्लेषकों की राय अलग-अलग है| लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर चुनावी विश्लेषकों के मुताबिक देश के ज्यादातर चुनाव विश्लेषकों ने लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी और एनडीए सरकार पर ही दांव लगाया है| वहीँ, न्यूज़ नेशन में छापी रिपोर्ट के मुताबिक आम जनता का किस पार्टी की और रुझान अधिक है और इसके साथ ही कौन से मुद्दे है जो आम जनता से जोड़ता है यह निर्भर करता है| जहाँ एक और राजनितिक पार्टियों में राम मंदिर, तीन तलक, राफेल मामला आदि को लेकर मुद्दा गर्म रहता है वहीँ, दूसरी ओर रोजगार, महंगाई, शिक्षा, बीजली-पानी जैसे मुद्दे प्रमुख होते है|

Related Article:2019 लोकसभा चुनाव: 66 नौकरशाहों ने अचार संहिता उल्लंघन को लेकर राष्ट्रपति को लिखा पत्र

क्या कहते है आंकडें

रिपोर्ट के अनुसार, आम जनता पर अलग-अलग मुद्दे को लेकर किए सर्वे के अंतर्गत, रोजगार 22 %, महंगाई 17 % और पीएम पद का उम्मीदवार 11 % लोगों की प्राथमिकता रही| वहीँ, राफेल उनकी प्राथमिकता में सबसे निचली पायदान पर रहा| भ्रष्टाचार 9 फीसदी लोगों को प्रभावित करता है, तो सर्जिकल स्ट्राइक यानी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की इच्छा 6 % लोग रखते हैं| आतंकवाद 5 % लोगों को प्रभावित करता है| बिजली-पानी-सड़क, नोटबंदी-जीएसटी, खेती किसानी के मुद्दे 4 फीसदी लोगों के लिए महत्वपूर्ण है| महिला सुरक्षा-कानून व्यवस्था और जातिगत बिखराव या 10 फीसदी आर्थिक आरक्षण 2 फीसदी लोगों के लिए विचारणीय है| राम मंदिर यानी अयोध्या से प्रभावित होने वाले लोग महज 2 फीसदी हैं| यही वजह है कि सांप्रदायिकता को कसौटी सिर्फ 1 फीसदी जनता ने ही माना| 3 % लोग इन मुद्दों को अपनी कसौटी नहीं बना सके|

इसके अलावा जब लोगों से सर्वे के दौरान अगली सरकार किसकी आनी चाहिए, इस बारे में पूछा गया तब ज्यादातर लोगों ने मोदी सरकार पर दांव लगाया| ‘न्यूज़ नेशन’ द्वारा किए गए इस सर्वे में नरेंद्र मोदी के लिए 48 प्रतिशत लोगों ने पक्ष रखा| वहीँ, 29 प्रतिशत लोगों ने राहुल गांधी को चुना| जबकि 5 प्रतिशत मायावती और इसी के सामान प्रियंका गाँधी के लिए 5 प्रतिशत लोगों ने पक्ष रखा|

Summary
Article Name
Lok Sabha Elections 2019: This time low voting rate, know which government is towards the general public trends
Description
सत्रहवीं लोकसभा चुनाव का पहला चरण संपन्न हो गया| देश के 18 राज्यों और दो केंद्र प्रशासित प्रदेशों की 91 सीटों पर कल 11 अप्रैल को मतदान हुआ| चुनाव आयोग के द्वारा लोकसभा चुनाव के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किए गए थे मगर कुछ राज्यों में छिटपुट घटनाओं की होने की खबर भी मिली|
Author
Publisher Name
The Policy Times