मिजोरम एलेक्शंस रिजल्ट्स: मिजो नेशनल फ्रंट बहुमत के साथ बनाएगी सरकार

0
1 Views

मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने 10 साल बाद सत्ता में वापसी की है। मिजोरम के मुख्यमंत्री लाल थनहवला अपनी दोनों चम्फाई दक्षिण और सेरछिप सीट बचाने में नाकाम रहे। चम्फाई साउथ सीट पर लाल थनहवला एमएनएफ के टी जे लालनंतलुआंग ने 856 वोटों से मात दी है। परिणामों के रुझानों के मुताबिक राज्य में मिजो नेशनल फ्रंट सरकार बनाने जा रही है। मिजोरम में कांग्रेस को 29 सीटों का नुकसान हुआ है।

मिजोरम विधानसभा की 40 सीटों पर हुए चुनाव के लिए मतगणना खत्म हो चुकी है और सभी 40 नतीजे चुके हैं। इन चुनावों में मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने बहुमत हासिल कर लिया है। मिजो नेशनल फ्रंट ने 10 साल बाद सत्ता में वापसी की है। कांग्रेस ने 2013 के विधानसभा चुनाव में 34 सीटों पर जीत हासिल की थी जबकि एमएनएफ पांच सीट पर कब्जा कर पाई थी। एमएनएफ से 2008 में राज्य की सत्ता छिन गई थी। चुनाव आयोग के अभी तक आए आंकड़ों के मुताबिक एमएनएफ ने 26 सीटों पर जीत हासिल की है। वहीं कांग्रेस ने पांच सीटों पर कब्जा किया है तो अन्य के खाते में 8 सीटें आई हैं। भारतीय जनता पार्टी भी पूर्वोत्तर के इस इस राज्य में खाता खोलने में कामयाब हुई है और उसे भी एक सीट पर जीत हासिल हुई है।

एमएनएफ के डॉक्टर एफ लालनुनमाइआ ने आइजोल साउथ-3 सीट पर कृषि मंत्री के एस ठेंगा को 2,037 मतों के अंतर से हराया। विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष लालचमलियना (एमएनएफ) ने हरांगतुर्जो सीट से एकमात्र महिला विधायक, सहयोग मंत्री वनलालामपुई चौग्थु को हराया जबकि एमएनएफ के लालरेनॉमा ने सत्तारूढ़ कांग्रेस की संग्जेला त्लाउ को हराकर तुइकुम सीट बरकरार रखी है। एमएनएफ के डॉ के बिछुआ और लालरुआतकिमा ने क्रमश: सैहा और पश्चिम आइजोलदो से अपनीअपनी सीटें बरकरार रखी हैं। पूर्व गृहमंत्री तौंलुईए ने अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी जेडपीएम के डब्ल्यू छुआनाउमा को 701 मतों से हराकर तुइचांग सीट से जीत दर्ज कर ली है। कांग्रेस और मुख्य विपक्षी एमएनएफ ने 40-40 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए हैं जबकि बीजेपी 39 सीटों पर मैदान में थे।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मिजोरम में चुनाव प्रचार किया।

मिजोरम के अलावा मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ के भी मतगणना की जा रही है।

मिजो नेशनल फ्रंट

मार्च 1966 मिजो नेशनल फ्रंट विद्रोह भारत सरकार के खिलाफ विद्रोह था, जिसका उद्देश्य मिजोस के लिए एक संप्रभु राज्य स्थापित करना था। 1 मार्च 1966 को, मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने असम के मिजो जिले के विभिन्न हिस्सों में सरकारी कार्यालयों और सुरक्षा बलों पर समेकित हमलों की शुरूआत के बाद आजादी की घोषणा की। सरकार ने विद्रोह को दबा दिया और 25 मार्च 1966 तक एमएनएफ द्वारा जब्त किए गए सभी स्थानों को पुनः प्राप्त कर लिया। अगले कुछ सालों में काउंटर विद्रोह अभियान जारी रहा, हालांकि विद्रोह की तीव्रता 1986 की शांति वार्ता में अपने पूर्ण संकल्प तक समय के साथ धीरे-धीरे कम हो गई। विद्रोह को दबाने के लिए सरकारी परिचालनों के दौरान, भारतीय वायु सेना ने ऐजोल में हवाई हमले किए। यह भारत का एकमात्र उदाहरण है के अपने स्वयं के नागरिक इलाके में एक हवाई हमले किये।

Summary
Mizoram Election Results: Mizo National Front Government Will Build With the Majority
Article Name
Mizoram Election Results: Mizo National Front Government Will Build With the Majority
Author
Publisher Name
The Policy times
Publisher Logo