Momo Whatsapp Challenge: छीन रहा बच्चों की जिंदगी!

यह गेम लगभग ब्लू व्हेल गेम की तरह है| इस गेम में अधिकतर मानसिक रूप से कमज़ोर लोगों को शिकार बनाते है| जो शख्स इस गेम द्वारा दिए नंबर से बात करता है उसे कुछ टास्क दिए जाते हैं| इसके बाद धीरे-धीरे भरोसे में लिया जाता है और फिर डरा कर ऐसे काम कराए जाते हैं जिनसे शारीरिक चोट पहुंचे| अंत में सुसाइड चैलेंज दिया जाता है|

0
4 Views

मोमो चैलेंज इन दिनों सुर्ख़ियों में है| सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर ऐसे कई अनजान नंबर आते है जो हमारे और आपके लिए घातक साबित हो सकते है, इसलिए ऐसे किसी भी अनजान नंबर को मोबाइल पर बिना सोंचे-समझें सेव न करें|

खतरों से भरा मोमो चैलेंज

मोमो चैलेंज वाट्सऐप के ज़रिए वायरल हो रहा है| मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह गेम जापान का है| फेसबुक और वाट्सऐप पर वायरल हो रहे इस गेम में लोगों को एक अंजान शख्स से बात करने के लिए एक नंबर दिया जाता है|

इस कांटेक्ट नंबर को सेव करने पर बड़ी आंखों वाली एक डॉल की फोटो आती है जो काफी डरावनी है| इस डॉल को बनानी वाली एक जापानी आर्टिस्ट मिडोरी हायाशी हैं पर उनका कहना है कि इस गेम से उनका कोई संबंध नहीं|

मानसिक रूप से कमज़ोर लोगों को बनाते है शिकार

यह गेम लगभग ब्लू व्हेल गेम की तरह है| इस गेम में अधिकतर मानसिक रूप से कमज़ोर लोगों को शिकार बनातें है| जो शख्स इस गेम द्वारा दिए नंबर से बात करता है उसे कुछ टास्क दिए जाते हैं| इसके बाद धीरे-धीरे भरोसे में लिया जाता है या फिर डरा कर ऐसे काम कराए जाते हैं जिनसे शारीरिक चोट पहुंचे|

चैलेंज पूरा न करने पर मोमो (फिक्शनल करैक्टर) डांटती है और धमकियाँ देती है| यूजर डर के कारण उनके बताएं निर्देश को मानने के लिए मजबूर हो जाता है| इस गेम के अंत में सुसाइड चैलेंज दिया जाता है|

इस गेम के चलते कथित रूप से अर्जेंटीना में 12 साल की एक बच्ची ने आत्महत्या कर ली है। बच्ची ने आत्महत्या से पहले सोशल मीडिया पर कई सारे चैलेंज पूरा करते हुए वीडियो पोस्ट किए थे।

मोमो चैलेंज से भारत में पहली मौत

मोमो व्हाट्सएप चैलेंज से भारत में पहली मौत की खबर राजस्थान के अजमेर से आई| खबर के मुताबिक एक दसवी कक्षा की छात्रा ने अपने जन्मदिन के तीन दिन बाद जान दे दी| छात्रा ने पहले अपनी नस कांटी, उसके बाद फांसी लगा ली|

कुछ दिनों पहले उत्तर बंगाल में ऑनलाइन किलर मोमो गेम का चैलेंज मिलने के बाद दो लोगों की मौत होने की खबर आई थी| जिसके बाद राज्य सरकार इस गेम से निपटने के लिए ऐहतियाती कदम उठा रही है।

बच्चों पर रखें नज़र 

इस गेम में ज्यदातर युवा और बच्चों को शिकार बनाया जाता है|

ऑस्कर अस्पताल के डॉक्टर राजेश काकडे का कहना हैं, ‘यदि आपका बच्चा फेसबुक और वाट्सऐप पर काफी सक्रिय रहता है तो उस पर नजर बनाए रखें। उसे अज्ञात नंबरों से बात करने से रोकें। बच्चों की आदत में आ रहे बदलाव को नजरअंदाज ना करें। यदि वह गुमसुम और शांत रहने लगे, अचानक खाना-पीना छोड़ दे तो तुरंत मनोरोग विशेषज्ञ की मदद लें।’

साइबर एक्सपर्ट के मुताबिक, ‘मोमो चैलेंज से एक नहीं बल्कि कई सारे खतरें है| इस गेम के ज़रिए अपराधी बच्चों को और युवाओं को अपने जाल में फंसाते है| प्रोफाइल से निजी जानकारी हासिल करने के बाद उनके परिजनों को धमकियां देते है| इतना ही नहीं बल्कि उन्हें तनाव में डाल कर आत्महत्या करने के लिए उकसाते है|’

Summary
Momo Whatsapp Challenge: छीन रहा बच्चों की जिंदगी!
Article Name
Momo Whatsapp Challenge: छीन रहा बच्चों की जिंदगी!
Description
यह गेम लगभग ब्लू व्हेल गेम की तरह है| इस गेम में अधिकतर मानसिक रूप से कमज़ोर लोगों को शिकार बनाते है| जो शख्स इस गेम द्वारा दिए नंबर से बात करता है उसे कुछ टास्क दिए जाते हैं| इसके बाद धीरे-धीरे भरोसे में लिया जाता है और फिर डरा कर ऐसे काम कराए जाते हैं जिनसे शारीरिक चोट पहुंचे| अंत में सुसाइड चैलेंज दिया जाता है|
Author
Publisher Name
The Policy Times
Publisher Logo