श्रीलंका आतंकी हमला पर इसाई समुदाय के साथ एकजुट खड़े हुए मुस्लिम समाज

भारतीय मुस्लिम और ईसाई धर्मावलंबियों ने एक संयुक्त बयान जारी कर श्रीलंका के आतंकी हमले और पीड़ितों के प्रति एकजुटता व्यक्त कर आतंकवादी हमले की निंदा की है| उन्होंने मंगलवार को नई दिल्ली में संविधान क्लब में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया था जिसमें दोनों समुदायों के धार्मिक और सामाजिक नेताओं ने ईस्टर रविवार को श्रीलंका के गिरजाघरों और होटलों में सबसे भयावह सीरियल बम धमाकों की निंदा की|

0
147 Views

भारतीय मुस्लिम और ईसाई धर्मावलंबियों ने एक संयुक्त बयान जारी कर श्रीलंका के आतंकी हमलों और पीड़ितों के प्रति एकजुटता व्यक्त की|

नई दिल्ली में संविधान क्लब में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया जिसमें जिसमें दोनों समुदायों के धार्मिक और सामाजिक नेता|

प्रेस सचिव मौलाना महमूद मदनी ने कहा, ‘एक दूसरे को दोष देने का समय नहीं, एकजुट होने का समय है|

ईसाई नेता फादर फ्लेक्स ने एकजुटता के लिए मुस्लिम समुदाय के नेताओं का किया धन्यवाद|

वहीँ, पकिस्तान के मुस्लिम और इसाई समुदाय एकजुट हुए और बढ़ते आतंकवाद पर चिंता व्यक्त की|


भारतीय मुस्लिम और ईसाई धर्मावलंबियों ने एक संयुक्त बयान जारी कर श्रीलंका के आतंकी हमले और पीड़ितों के प्रति एकजुटता व्यक्त कर आतंकवादी हमले की निंदा की है| उन्होंने मंगलवार को नई दिल्ली में संविधान क्लब में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया था जिसमें दोनों समुदायों के धार्मिक और सामाजिक नेताओं ने ईस्टर रविवार को श्रीलंका के गिरजाघरों और होटलों में सबसे भयावह सीरियल बम धमाकों की निंदा की|

Related Article:एयर स्ट्राइक के बाद सभी राजनीतिक दलों ने सेना के पराक्रम को सराहा

इस जानलेवा बम धमाके में 300 से अधिक लोगों ने जान गवाई वहीँ, 500 से अधिक लोगों के घायल होने का दावा किया गया है| उन्होंने कहा कि आतंकवादी मानव-विरोधी, ईश्वर विरोधी और सभ्यता विरोधी हैं और आतंकवाद पृथ्वी पर अधिकांश जघन्य और शैतानी ताकतों के अवतार हैं|

एक दूसरे को दोष देने का समय नहीं,एकजुट होने का समय है

मौलाना महमूद मदनी, महासचिव ‘जमीयत उलमा-ए-हिंद’ ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि हम इस नृशंस कृत्य की निंदा करते हैं बिना इफ्स और बट्स के| यह एक दूसरे को दोष देने का समय नहीं है बल्कि पीड़ितों के साथ एकजुटता व्यक्त करने और उन्हें इस आघात से बाहर निकालने में सक्षम बनाने का समय है| उन्होंने भारतीय मुस्लिम नेताओं और अन्य सामाजिक और राजनीतिक नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल के गठन का भी इरादा जताया जो श्रीलंका में पीड़ितों का दौरा करें और उनकी मदद करने की संभावनाओं का आकलन करें|

ईसाई नेता फादर फ्लेक्स, फादर ए सी मिशल और फादर अब्राहम ने इस सबसे परीक्षण समय में अपने समुदाय के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए मुस्लिम नेताओं को धन्यवाद दिया| दिल्ली अल्पसंख्यक कमीशन के अध्यक्ष डॉ जफरुल इस्लाम खान, मानवाधिकार कार्यकर्ता डॉ. झोन दयाल, मुशावरत प्रमुख नावेद हामिद, जमात-ए-इस्लामी हिंद के नुसरत अली, शिया विद्वान मौलाना मोहम्मद नकवी ने भी प्रेस को संबोधित किया था|

आपको बता दें की इस आत्मघाती हमले में 7 हिन्दुस्तानी भी मारे गए थे | दिल्ली में कैंडल मार्च के साथ साथ कई और जगहों पर भी सॉलिडेरिटी मार्च निकला गया जिसमे अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और जामिआ मिलिआ भी शामिल थे|

पकिस्तान के मुस्लिम और इसाई समुदाय हुए एकजुट

श्रीलंका में हुए आत्मघाती हमले को लेकर पकिस्तान लाहौर में रवाड़ी तहरीक पकिस्तान के नेतृत्व में पंजाब असेंबली के सामने गहरी संवेदना और एकजुटता प्रकट की| 21 अप्रैल के जानलेवा बम विस्फोट में मारे गए लोगों के लिए कैंडल लाइट की रैली निकालते हुए विभिन्न धर्मों के करोड़ो पाकिस्तानियों ने उग्रवाद और आतंकवाद के खिलाफ नारे लगाए और मोमबत्ती जलाकर उन सभी की याद में मौन मनाया|

इस अवसर पर प्रमुख धार्मिक, राजनीतिक और सामाजिक हस्तियां मौजूद थे| सईद डाइप (चेयरपर्सन, इंस्टीट्यूट फॉर पीस एंड सेक्युलर स्टडीज), फारूक तारिक (प्रवक्ता, अवामी वर्कर्स पार्टी), शाज़िया खान (अवामी लेटर्स पार्टी), रेव फ़राज मलिक (क्रिश्चियन पास्टर) शामिल थे| इसके साथ ही रेवैन इमैनुएल खोखर (क्रिश्चियन पादरी), हाफिज मुहम्मद हुसैन गोलेरवी (मुस्लिम धार्मिक नेता), तारिक सिराज (चेयरपर्सन, ह्यूमन कंसर्न नेटवर्क) चमन लाल (प्रतिनिधि हिंदू समुदाय के कार्यकर्ता), नसीर अहमद (अध्यक्ष, रवादारी तहरीक पंजाब) और विक्रम मंज़ूर (रवाडरी तहरीक लाहौर के अध्यक्ष) शामिल हुए|

रवाडरी तहरीक के चेयरमैन सैमसन सलामत ने कैंडल-सतर्कता के प्रतिभागियों को संबोधित किया और बम विस्फोटों की कड़ी शब्दों में निंदा की और पाकिस्तान के लोगों और रवाड़ी आंदोलन के सदस्यों की ओर से श्रीलंका के लोगों के साथ अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की| सैमसन सलामत ने कहा कि हम इस कठिन समय में श्रीलंका में अपने भाइयों और बहनों के साथ है|

Related Article:न्यूजीलैंड गोलीबारी:सात भारतीयों की मौत की पुष्टि,मृतकों की संख्या हुई 50

सैमसन सलामत ने विश्व में बढ़ते आतंकी हमलों को लेकर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि आतंकवाद ने पूरी दुनिया को बुरी तरह प्रभावित किया है जिसमें विशेष रूप से दक्षिण एशियाई क्षेत्र| उन्होंने कहा, यह दक्षिण एशिया के लिए एक साथ बैठने और आतंकवादी संगठनों से निपटने के लिए एक संयुक्त योजना तैयार करने का समय है जो धर्म के नाम पर लोगों की हत्या कर रहे हैं और धार्मिक असहिष्णुता और उग्रवाद को खत्म करने के लिए मध्यम अवधि और दीर्घकालिक योजना बना रहे हैं|

उन्होंने आगे जानकारी दी कि रवाड़ी तहरीक 24 अप्रैल 2019 को कराची से अपना रवादारी कारवां शुरू कर रहा है जो सड़क मार्ग से विभिन्न प्रांतों और शहरों से होकर गुजरेगा और 27 अप्रैल, 2019 को लाहौर पहुंचेगा| जब रवाड़ी कारवां 27 अप्रैल को लाहौर पहुंचेगा तो एक ‘मानवता मार्च’आयोजित किया जाएगा जिसमें पूरे पाकिस्तान के लोगों द्वारा ‘नो एक्स्ट्रीमिज्म और टेररिज्म’ कहने के लिए भाग लिया जाएगा|

Summary
Article Name
Muslim community stand with the Christian community on the Sri Lanka terrorist attack
Description
भारतीय मुस्लिम और ईसाई धर्मावलंबियों ने एक संयुक्त बयान जारी कर श्रीलंका के आतंकी हमले और पीड़ितों के प्रति एकजुटता व्यक्त कर आतंकवादी हमले की निंदा की है| उन्होंने मंगलवार को नई दिल्ली में संविधान क्लब में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया था जिसमें दोनों समुदायों के धार्मिक और सामाजिक नेताओं ने ईस्टर रविवार को श्रीलंका के गिरजाघरों और होटलों में सबसे भयावह सीरियल बम धमाकों की निंदा की|
Author
Publisher Name
The Policy Times