अब 600 थिएटर कलाकारों ने की घृणा के खिलाफ वोट देने की अपील

बॉलीवुड फिल्म निर्माताओं के बाद अब थिएटर कलाकारों ने लोगों से बीजेपी को वोट ना देने का अपील की है| देशभर के लगभग 600 कलाकारों ने एक निवेदन पत्र पर हस्ताक्षर किए| इसमें नागरिकों से अपील की गई है कि वे आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी और उसके सहयोगियों को वोट ना दें| कलाकारों की इस लिस्ट में अनुराग कश्यप, कोंकणा सेन शर्मा, अमोल पालेकर, डॉली ठाकोर, गिरीश कर्नाड, लिलेट दुबे, नसीरुद्दीन शाह, रत्ना पाठक शाह, महेश दत्तानी, एमके रैना, चंदन रॉय सान्याल और संजना कपूर जैसी हस्तियां शामिल हैं।

0
2 Views

बॉलीवुड फिल्म निर्माताओं के बाद अब थिएटर कलाकारों ने लोगों से बीजेपी को वोट ना देने का अपील की है| देशभर के लगभग 600 कलाकारों ने एक निवेदन पत्र पर हस्ताक्षर किए| इसमें नागरिकों से अपील की गई है कि वे आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी और उसके सहयोगियों को वोट ना दें| कलाकारों की इस लिस्ट में अनुराग कश्यप, कोंकणा सेन शर्मा, अमोल पालेकर, डॉली ठाकोर, गिरीश कर्नाड, लिलेट दुबे, नसीरुद्दीन शाह, रत्ना पाठक शाह, महेश दत्तानी, एमके रैना, चंदन रॉय सान्याल और संजना कपूर जैसी हस्तियां शामिल हैं।

Related Article:लालकृष्ण अडवानी ने तोड़ी चुप्पी… कहा, असहमति रखने वालों को कभी राष्ट्र विरोधी नहीं कहा

वर्तमान सरकार की आलोचना करते हुए, कलाकारों ने लिखा कि “विकास के वादे के साथ पांच साल पहले सत्ता में आई बीजेपी ने हिंदुत्व के गुंडों को नफरत और हिंसा की राजनीति करने के लिए स्वतंत्रता दी है| कलाकारों ने नागरिकों से कट्टरता, घृणा से युक्त पार्टी को वोट ना देने और सबसे कमजोर लोगों को सशक्त बनाने, स्वतंत्रता की रक्षा करने, पर्यावरण की रक्षा करने और वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देने के लिए वोट देने की अपील की|

भारत का विचार खतरे में

एक संयुक्त बयान में इन कलाकारों ने कहा, “आज भारत का विचार खतरे में है। आज, गीत, नृत्य, हंसी खतरे में है। आज, हमारा प्रिय संविधान खतरे में है। सरकार ने उन संस्थानों का “दम घोंट दिया है जहां तर्क, बहस और असंतोष पर बात हो सकती थी। लोकतंत्र को अपने सबसे कमजोर व्यक्ति जो हाशिए पर है को सशक्त चाहिए।

पत्र में कहा गया है कि “किसी भी लोकतंत्र में सवाल, बहस होना चाहिए। लोकतंत्र जीवंत विपक्ष के बिना काम नहीं कर सकता। लेकिन मौजूदा सरकार इस सब को नष्ट कर रही है।

हिंदुत्व के गुंडों ने नफरत फैलाई

उन्होंने कहा कि विकास के वादे के साथ पांच साल पहले सत्ता में आई बीजेपी ने हिंदुत्व के गुंडों को नफरत और हिंसा की राजनीति करने के लिए स्वतंत्र कर दिया है। हालांकि पत्र में कहीं भी प्रधानमंत्री के नाम का उल्लेख नहीं है। पत्र में कहा गया है कि यही वजह है कि हम अपनी करते हैं कि लोग “संविधान, धर्मनिरपेक्ष लोकाचार” की रक्षा करने और “कट्टरता, घृणा और सत्ता से बाहर कुछ न सोचने वालों के खिलाफ वोट करें।

उन्होंने कहा, “सबसे कमजोर लोगों को सशक्त बनाने, स्वतंत्रता की रक्षा करने, पर्यावरण की रक्षा करने और वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देने के लिए वोट करें। धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक, समावेशी भारत के लिए वोट करें। स्वप्न देखने की आजादी के लिए वोट करें। बुद्धिमानी से वोट दें।

पिछले हफ्ते, आनंद पटवर्धन, सनल कुमार शशिधरन और देवाशीष मखीजा जैसे प्रतिष्ठित फिल्म निर्माताओं द्वारा एक ऐसी अपील जारी की गई थी, जिसमें मतदाताओं से “फासीवाद को हराने” के लिए कहा गया था।

इससे पहले देश के प्रमुख 210 लेखकों ने एक बयान जारी किया था, जिसमें घृणा की राजनीति के खिलाफ वोट देने की बात कही गई थी| ये बयान देने वालों में अरुंधति रॉय, आनंद तेलतुबंड़े, नयनतारा सहगल और रोमिला थापर जैसे लेखकों और बुद्धिजीवियों के नाम शामिल थे|

लगभग 150 वैज्ञानिक भी मतदाताओं से हिंसा और नफरत की राजनीति करने वालों के खिलाफ ‘सोच-समझकर’ वोट करने की अपील कर चुके हैं|

देश भर के सरकारी और निजी संस्थानों के वैज्ञानिकों ने ‘इंडियन कल्चर फॉर्म के बैनर तले ये अपील की थी| वैज्ञानिकों का ये समूह इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (आईआईएसईआर), अशोका यूनिवर्सिटी, इंडियन स्टेटिस्टिकल इंस्टीट्यूट (आईएसआई), द नेशनल सेंटर फॉर बायोलॉजिकल साइंस (एनसीबीएस) और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलोजी (आईआईटी) जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से जुड़ा हुआ है|

Related Article:पारदर्शिता के नाम पर संस्था को नष्ट नहीं कर सकते: सुप्रीम कोर्ट

इनका कहना है हम, भारत के थिएटर प्रैक्टिशनर्स, भारत के लोगों से संविधान और हमारे समकालिक, धर्मनिरपेक्ष लोकाचार को सुरक्षित रखने में मदद करने की अपील करते हैं। हम अपने साथी नागरिकों से प्यार और करुणा के लिए, समानता और सामाजिक न्याय के लिए, और अंधेरे और बर्बरता की ताकतों को हराने की अपील करते हैं।

हमारी अपील यही है कि वोट बिग्रेड, नफरत और उदासीनता को सत्ता से बाहर करें। भाजपा और उसके सहयोगियों के खिलाफ वोट करें। सबसे कमजोर को सशक्त बनाने, स्वतंत्रता की रक्षा, पर्यावरण की रक्षा और वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देने के लिए वोट दें। धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक, समावेशी भारत के लिए वोट करें। सपने देखने की आजादी के लिए वोट करें। समझदारी से मतदान करें।

Summary
Article Name
Now 600 theater artists appeal to vote against hatred
Description
बॉलीवुड फिल्म निर्माताओं के बाद अब थिएटर कलाकारों ने लोगों से बीजेपी को वोट ना देने का अपील की है| देशभर के लगभग 600 कलाकारों ने एक निवेदन पत्र पर हस्ताक्षर किए| इसमें नागरिकों से अपील की गई है कि वे आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी और उसके सहयोगियों को वोट ना दें| कलाकारों की इस लिस्ट में अनुराग कश्यप, कोंकणा सेन शर्मा, अमोल पालेकर, डॉली ठाकोर, गिरीश कर्नाड, लिलेट दुबे, नसीरुद्दीन शाह, रत्ना पाठक शाह, महेश दत्तानी, एमके रैना, चंदन रॉय सान्याल और संजना कपूर जैसी हस्तियां शामिल हैं।
Author
Publisher Name
The Policy Times