सीबीआई फिर से शक के घेरे में; सृजन घोटाले जाँच को दबाने के लिए 1400 करोड़ लेने का आरोप

तेजस्वी यादव ने कहा द टेलीग्राफ की जिसमें एक सीबीआई अधिकारी पर 1400 करोड़ के सृजन घोटाले की जांच को दबाने की बात कही गई है|

0
Once again cbi is called in corruption charges in surjan for taking bribe of 1400 crores repees

सीबीआई में पिछले कुछ दिनों से छिड़ी जंग में अब एक और नया मोड़ आया है| दरअसल मामले में राजद प्रमुख लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना पर जोरदार हमला करते हुए एक ट्वीट में लिखा है कि- क्या राकेश अस्थाना ने महागठबंधन से एनडीए में स्विच करने के बदले 2500 करोड़ सृजन घोटाले से नीतीश कुमार को बचाया था? सीबीआई ने अभी तक सृजन घोटाले के मुख्य अपराधियों को गिरफ्तार नहीं किया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजकोष से 2500 करोड़ सृजन एनजीओ के खाते में डालकर गबन किया था| बता दें कि सृजन घोटाला 2004 में हुआ था जिसने नीतीश कुमार की छवि का खासा नुकसान पहुंचाया था|

राष्ट्रीय जनता दल के नेता और बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राजद के विधायक और प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव का एक ट्वीट को रिट्वीट किया है| उस ट्वीट में लिखा है- ‘ये वही राकेश अस्थाना है, जिसने नीतीश कुमार, सुशील मोदी, एलके आडवाणी से मिलकर लालू जी को साजिशकर्ता बनाया| श्याम बिहारी सिन्हा ने नीतीश कुमार पर रिश्वत लेने का आरोप लगाने के वावजूद नामजद नहीं किया| गोधरा कांड में नरेंद्र मोदी और अमित शाह को मोटी रकम लेकर क्लीन चिट दिया| बता दें कि शक्ति सिंह यादव हिलसा से विधायक हैं|

Related Articles:

तेजस्वी यादव ने कहा द टेलीग्राफ की जिसमें एक सीबीआई अधिकारी पर 1400 करोड़ के सृजन घोटाले की जांच को दबाने की बात कही गई है| एक खबर का लिंक भी शेयर किया| इसके अलावा उन्होंने पिता लालू के ट्विटर पर एक अन्य खबर का लिंक शेयर किया जिसका टाइटिल था- ‘क्या नरेंद्र मोदी के परम सहयोगी राकेश अस्थाना ने ही 2500 करोड़ के सृजन घोटाले में नीतीश को बचाया? वहीं, चारा घोटाले में जेल की सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने भी सीबीआई विवाद में सवालों के घेरे में आए राकेश अस्थाना पर निशाना साधा है|

बता दें कि सीबीआई के दो प्रमुख अधिकारियों पर रिश्वत और भ्रष्टाचार का आरोप लगने के बाद से जांच जारी है और दोनों ही अधिकारी राकेश अस्थाना और आलोक वर्मा को जांच पूरी होने तक के लिए छुट्टी पर भेज दिया है| साथ ही नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक बना दिया है| हालांकि मामले में छुट्टी पर भेजे जाने के खिलाफ आलोक वर्मा की याचिका पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई थी| सुनवाई में कोर्ट ने कहा है कि नागेश्वर राव बस डेली रूटीन के काम करेंगे, बतौर अंतरिम निदेशक वे कोई फैसला नहीं ले सकते|

Summary
सीबीआई फिर से शक के घेरे में; सृजन घोटाले जाँच को दबाने के लिए 1400 करोड़ लेने का आरोप
Article Name
सीबीआई फिर से शक के घेरे में; सृजन घोटाले जाँच को दबाने के लिए 1400 करोड़ लेने का आरोप
Description
तेजस्वी यादव ने कहा द टेलीग्राफ की जिसमें एक सीबीआई अधिकारी पर 1400 करोड़ के सृजन घोटाले की जांच को दबाने की बात कही गई है|
Author
Publisher Name
The Policy Times
Publisher Logo