पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने ईशनिंदा में आसिया को बरी करने के फैसले की समीक्षा करेगा

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को फैसला करने के लिए तैयार है कि क्या वह एशिया बीबी के बरी होने के खिलाफ अपील की अनुमति दे सकती है, जो ईश निंदा के आरोप में आठ साल से मौत की सजा पर है।पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत ने गत अक्टूबर में आसिया को मिली मौत की सजा को रद कर दिया था। इस फैसले से भड़के कट्टरपंथियों ने देशभर में भारी विरोध प्रदर्शन किया था।

0
Pakistan Supreme court court reviewed the dicision of releasing Asiya in Blasphemy Case

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को फैसला करने के लिए तैयार है कि क्या वह एशिया बीबी के बरी होने के खिलाफ अपील की अनुमति दे सकती है, जो ईश निंदा के आरोप में आठ साल से मौत की सजा पर है।पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत ने गत अक्टूबर में आसिया को मिली मौत की सजा को रद कर दिया था। इस फैसले से भड़के कट्टरपंथियों ने देशभर में भारी विरोध प्रदर्शन किया था।

आसिया को साल 2010 में सजा सुनाई गई थी। उन पर आरोप था कि उन्होंने पड़ोसियों के साथ झगड़े में इस्लाम का अपमान किया। उन्होंने हालांकि इससे इन्कार किया था और खुद को निर्दोष बताया था। पाकिस्तान में हालांकि सुप्रीम कोर्ट के फैसलों से जुड़ी ज्यादातर पुनर्विचार याचिकाएं तत्काल रद हो जाती हैं, लेकिन आसिया का मामला सियासी रूप से संवेदनशील समझा जा रहा है। इस मामले की सुप्रीम कोर्ट के नए चीफ जस्टिस आसिफ सईद खोसा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ सुनवाई करेगी।

मुल्क लौटे आसिया के वकील

आसिया के वकील सैफ-उल-मलूक पाकिस्तान लौट आए हैं। आसिया के बरी होने के बाद उन्हें जान से मारने की धमकियां मिली थीं। इसके चलते वह नीदरलैंड्स चले गए थे।आसिया के वकील सैफुल मलूक सुरक्षा कारणों से पिछले साल नीदरलैंड चले गए थे। ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ से बात करते हुए मलूक ने कहा कि वह अपनी मुवक्किल के खिलाफ पुनर्विचार याचिका पर 29 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई के लिए स्वदेश लौटेंगे। उन्होंने प्रधानमंत्री इमरान खान से इस्लामाबाद में अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है। वह स्थाई रूप से वापसी का निर्णय कर चुके हैं।

Summary
Article Name
Pakistan Supreme court court reviewed the dicision of releasing Asiya in Blasphemy Case
Description
पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को फैसला करने के लिए तैयार है कि क्या वह एशिया बीबी के बरी होने के खिलाफ अपील की अनुमति दे सकती है, जो ईश निंदा के आरोप में आठ साल से मौत की सजा पर है।पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत ने गत अक्टूबर में आसिया को मिली मौत की सजा को रद कर दिया था। इस फैसले से भड़के कट्टरपंथियों ने देशभर में भारी विरोध प्रदर्शन किया था।
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES