‘पैनिक बटन’ का सफल ट्रायल, मेनका ने कहा पुरे देश में जल्द करें शुरुआत

महिलाओं के सुरक्षा को धयान में रखते हुये आपात स्थिति में मोबाइल फोन में लगा ‘पैनिक बटन’ दबाने पर जीपीएस की मदद से उस स्थान की जानकारी निकट की पीसीआर वैन और परिवार/मित्र के पास पहुँच जाएगी|

0
panic-button-get-successful-maneka-committed-to-apply-for-country
41 Views

देश में महिलाओं की सुरुक्षा को देखते हुए केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गाँधी ने ‘पैनिक बटन’ के सफल प्रयोग के बाद गुरुवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह से आग्रह किया कि वह जल्द से जल्द पूरे देश में इसकी शुरुआत करें| मेनका ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आपात स्थिति में मोबाइल फोन में लगा पैनिक बटन दबाने पर जीपीएस की मदद से उस स्थान की जानकारी निकट की पीसीआर वैन और परिवार/मित्र के पास पहुँच जाएगी, जहां से पैनिक बटन दबाया गया है”|

मेनका गाँधी ने कहा कि, ‘‘मैंने गृह मंत्री राजनाथ सिंह जी से आग्रह किया है कि जल्द से जल्द पूरे देश मे मोबाइल फोन में पैनिक बटन सेवा की शुरुआत करें”| ‘पैनिक बटन’ की सुविधा का मकसद यह है कि मुश्किल में घिरने पर महिलाएं एक क्लिक भर से निकटतम पुलिस से संपर्क साध सकती हैं |

आगे उन्होंने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश के 47 जिलों मे मोबाइल फोन में पैनिक बटन का प्रयोग सफल रहा है| इनमें से कुछ ग्रामीण इलाके भी थे| उन्होंने कहा, ‘‘प्रयोग के दौरान यह पाया गया कि पैनिक बटन दबाने पर पुलिस मौके पर न्यूनतम दो मिनट में पहुंच गई| अधिकतम समय 26 मिनट का रहा और औसत समय आठ मिनट का|’’

इमरजेंसी रिसपोंस सिस्टम से जोड़ा जाएगा ‘पैनिक बटन’

खबर के मुताबिक पैनिक बटन को इमरजेंसी रिसपोंस सिस्टम से जोड़ा जाएगा, यानी पैनिक बटन दबाते ही महिला की मदद की जाएगी| इस बटन को इस्तेमाल करने के लिए पहले इसे मोबाइल फ़ोन में डाउनलोड करना होगा| पैनिक बटन एप डाउनलोड करने के बाद मदद के लिए जब कोई तीन बार इस बटन को दबाएगा, तब बटन काम करेगा और इमरजेंसी कॉल नंबर 112 पर चली जाएगी| हालाँकि कुछ राज्यों में यदि 112 नंबर काम नहीं कर पाया तो वह कॉल नंबर 100 में जाएगी|

कैसे काम करेगा ‘पैनिक बटन’

किसी महिला द्वारा पैनिक बटन दबाने से पहले उस जगह के आस-पास के पुलिस स्टेशन में 5 एसएमएस जाएगा| इसके बाद पहले से फीड किए गए पांच नम्बरों पर मदद के लिए एसएमएस जाएगा| इस प्रक्रिया के बाद इमरजेंसी नंबर 112 पर वोईस कॉल भेजा जाएगा, तब यूजर की लोकेशन भेजी जाएगी जिससे उसकी मदद जाएगी| इस प्रक्रिया के बाद उस क्षेत्र में आसपास के करीब 25 वालेंटियर के पास अलर्ट भेजा जाएगा जिससे मदद हो सके| इस पूरी प्रक्रिया का कारण सिर्फ इतना है कि अगर पुलिस समय से भेजी गयी लोकेशन पर पहुँच नहीं पाती है, तो उसकी जगह वालेंटियर जाएंगे| ये रजिस्टर्ड वालेंटियर होंगे|

मालुम हो दिल्ली में निर्भया रेप काण्ड के बाद केन्द्रीय सरकार ने महिलाओं की सुरुक्षा के लिए ‘पैनिक बटन एप’ की पहल की थी जिसके ज़रिए महिला कभी भी आपातकाल में पुलिस से तत्काल मदद मांग सकती है|

Summary
‘पैनिक बटन’ का सफल ट्रायल,  मेनका ने कहा पुरे देश में जल्द करें शुरुआत
Article Name
‘पैनिक बटन’ का सफल ट्रायल, मेनका ने कहा पुरे देश में जल्द करें शुरुआत
Description
महिलाओं के सुरक्षा को धयान में रखते हुये आपात स्थिति में मोबाइल फोन में लगा ‘पैनिक बटन’ दबाने पर जीपीएस की मदद से उस स्थान की जानकारी निकट की पीसीआर वैन और परिवार/मित्र के पास पहुँच जाएगी|
Author
Publisher Name
The Policy Times
Publisher Logo