मोदी की क्लीन चिट पर अशोक लवासा की नाराजगी पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने भी दिया जवाब

लोकसभा चुनाव के बीच ही चुनाव आयोग में अंदरूनी मतभेद की खबरों के बाद पीएम मोदी की क्लीन चिट दिए जाने से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की कथित चिट्ठी पर केंद्रीय चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा ने बयान जारी कहा है कि समिति की तीनों सदस्य एक दूसरे का क्लोन नहीं हो सकते हैं।

0
Responding to Ashok Lavasa's resignation on clean chit to PM Modi
115 Views

लोकसभा चुनाव के बीच ही चुनाव आयोग में अंदरूनी मतभेद की खबरों के बाद पीएम मोदी की क्लीन चिट दिए जाने से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की कथित चिट्ठी पर केंद्रीय चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा ने बयान जारी कहा है कि समिति की तीनों सदस्य एक दूसरे का क्लोन नहीं हो सकते हैं। इससे पहले भी कई मामलों में आपस में एक दूसरे के नजरिए अलग-अलग रहे हैं और जहां तक हो सके ऐस होना भी चाहिए। लेकिन इससे पहले सभी मतभेद चुनाव आयोग कार्यालय के अंदर ही रहे। ऐसे वक़्त में विवाद से बेहतर खामोशी है। सुनील अरोरा ने यह भी कहा कि आचार संहिता के मामलों को लेकर चुनाव आयोग की अंदरुनी गतिविधियों पर जो विवादित खबरें मीडिया में चल रही हैं उसको टाला जा सकता था।

Related Article:कोलकाता पुलिस के पूर्व प्रमुख राजीव कुमार ने गृह मंत्रालय में किया रिपोर्ट

गौरतलब है कि पीएम को चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के मामलों में चुनाव आयोग की क्लीन चिट को लेकर चुनाव आयुक्तों के बीच मतभेद बढ़ते जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की 4 मई को मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को लिखी एक चिट्ठी सामने आई है जिसमें उन्होंने लिखा है कि उन्हें फुल कमीशन की बैठक से दूर रहने के लिए मजबूर किया जा रहा है क्योंकि अल्पमत के फ़ैसले रिकॉर्ड नहीं किए जा रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को एक खत लिखा है। लवासा में खत में मांग की है कि 3 सदस्यीय आयोग में अगर किसी मुद्दे पर किसी सदस्य का विचार अलग है, तो संबंधित आदेश में बाकायदा उसका भी जिक्र हो। लवासा चाहते हैं कि जिस तरह सुप्रीम कोर्ट के आदेश में बेंच के जजों के अलग-अलग विचारों का स्पष्ट जिक्र होता है, वैसा ही चुनाव आयोग के मामले में भी हो। बता दें कि अशोक लवासा ने पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के आरोपों पर क्लीन चिट को लेकर बाकी 2 सदस्यों की राय से असहमत थे। वह चाहते हैं कि उनकी असहमति को भी रेकॉर्ड में लिया जाए। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि लवासा ने मुख्य चुनाव आयुक्त को लिखे खत में यह भी कहा है कि उनकी मांग के हिसाब से व्यवस्था बनने तक वह आयोग की बैठकों में शामिल नहीं होंगे।

मतभेद के बाद सीईसी ने जारी किया बयान

मीडिया रिपोर्ट्स में चुनाव आयुक्त अशोक लवासा के कथित खत के हवाले से चुनाव आयोग में अंदरूनी घमासान की खबरें आने के बाद मुख्य चुनाव आयुक्त को बयान जारी करना पड़ा। विवाद को टाले जाने योग्य बताते हुए अरोड़ा ने अपने बयान में कहा कि यह ऐसे वक्त में उपजा है जब देशभर के सभी मुख्य चुनाव अधिकारी और उनकी टीमें रविवार को होने वाले चरण चरण की वोटिंग की तैयारी में जुटे हैं, इसके अलावा 23 मई को मतगणना भी है।

Related Article:अलवर गैंगरेप मामले में राहुल गाँधी ने कहा, ‘यह मेरे लिए राजनितिक मुद्दा नहीं’… क्या है पूरा मामला?

मुख्य चुनाव आयुक्त की तरफ से जारी बयान में कहा गया है की चुनाव आयोग के तीनों सदस्यों के एक दूसरे के क्लोन होने की उम्मीद नहीं की जा सकती। अतीत में भी कई बार उनके विचारों में काफी विविधता रही है क्योंकि ऐसा हो सकता है और होना भी चाहिए। लेकिन, तब किसी सदस्य की अलग राय का मामला उसके रिटायरमेंट तक आयोग के भीतर ही रहता है। हां, रिटायरमेंट के काफी बाद संबंधित चुनाव मुख्य चुनाव अधिकारी अपनी लिखी किताब में इसका जिक्र करते हैं। मुख्य चुनाव आयुक्त ने अपने बयान में यह भी कहा है कि वह सार्वजनिक चर्चा से नहीं डरते। उन्होंने कहा है, ‘जरूरत पड़ने पर मुझे निजी तौर पर कभी भी किसी सार्वजनिक चर्चा से गुरेज नहीं रहा है लेकिन हर चीज का एक वक्त होता है।

कांग्रेस का हमला

चुनाव आयुक्त अशोक लवासा द्वारा मुख्य चुनाव आयुक्त को लिखे कथित खत को लेकर कांग्रेस ने चुनाव आयोग पर हमला बोला है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा की चुनाव आयोग मोदीजी का पिट्ठू बन चुका है, अशोक लवासाजी की चिट्ठी से साफ है सीईसी और उनके सहयोगी लवासाजी का जो भिन्न ऑपिनियन है मोदीजी और अमित शाह को लेकर उसको भी रिकॉर्ड करने को तैयार नहीं हैं।

Summary
Article Name
Responding to Ashok Lavasa's resignation on clean chit to PM Modi
Description
लोकसभा चुनाव के बीच ही चुनाव आयोग में अंदरूनी मतभेद की खबरों के बाद पीएम मोदी की क्लीन चिट दिए जाने से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा की कथित चिट्ठी पर केंद्रीय चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा ने बयान जारी कहा है कि समिति की तीनों सदस्य एक दूसरे का क्लोन नहीं हो सकते हैं।
Author
Publisher Name
The Policy Times