देश भर में स्वाइन फ्लू के 6,700 मामले दर्ज, 226 की मौत, राजधानी दिल्ली में1000 से अधिक मामले दर्ज

भारत में 3 फरवरी तक स्वाइन फ़्लू के कुल 6,701 मामलों में से 226 की मौत की पुष्टि की गयी है, जबकि 2018 में 798 मामलों में 68 मौतें हुई थी| आखिरी सप्ताह में कुल मामलों के एक तिहाई (2,101) के करीब मौतें सामने आयी हैं| राजस्थान में सर्वाधिक 34 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए हैं| इसके अलावा हरियाणा और दिल्ली में भी स्वाइन फ्लू के अच्छे खासे मामले सामने आये हैं|

0
Swine flu records 6,700 cases across the country ,226 deaths ,More than 1000 cases registered in Delhi |
140 Views

भारत में 3 फरवरी तक स्वाइन फ़्लू के कुल 6,701 मामलों में से 226 की मौत की पुष्टि की गयी है, जबकि 2018 में 798 मामलों में 68 मौतें हुई थी| आखिरी सप्ताह में कुल मामलों के एक तिहाई (2,101) के करीब मौतें सामने आयी हैं| राजस्थान में सर्वाधिक 34 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए हैं| इसके अलावा हरियाणा और दिल्ली में भी स्वाइन फ्लू के अच्छे खासे मामले सामने आये हैं|

बीती 3 फरवरी को जारी की गई नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) की रिपोर्ट बताती है कि अभी भी पूरे देश में लगभग 2,263 मरीज ‘एच1एन1’ पॉजिटिव है|

Related Article:Swine flu claims 226 lives across India, Rajasthan worst hit with 49 deaths

राजस्थान में स्वाइन फ्लू की मार लगातार जारी है। अकेले राजस्थान ने एक सप्ताह में 507 मामलों और 49 मौतों की पुष्टि की, इसके बाद दिल्ली में 456 मामले सामने आए, जिसमें पश्चिम बंगाल को छोड़कर पूरे भारत के आंकड़े शामिल हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम के आंकड़ों के अनुसार राजस्थान में सबसे अधिक 14,992 एच 1 एन 1 मामले और 1,103 मौतें दर्ज की गई हैं।

बुधवार को स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन ने एक बैठक को संबोधित करते हुए कहा “फ्लू का प्रकोप चक्रीय है और संख्या हर अलटरनेट साल में कम हो जाती है क्योंकि प्रकोप संक्रमण के खिलाफ प्रतिरक्षा विकसित करने वाले समुदाय का नेतृत्व करते हैं। पिछले साल, 15,000 से कम मामले थे, इसलिए इस वर्ष हम उम्मीद कर रहे थे कि संख्या में वृद्धि होगी।” स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा बैठक का आयोजन किया गया था।

Related Article:India to host global meet on UNICEF’s maternal and child health

प्रीति सूदन ने आगे कहा, “मौसम का पैटर्न लगातार बदल रहा है और इस मौसम में ठंड लंबे समय तक चली है। दिल्ली और हरियाणा में मामले बढे हैं, लेकिन मौतें कम हुई हैं, जो देश के लिए एक अच्छा संकेत है|

वर्तमान में ‘नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी), राजस्थान में अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रही है, जिसमें बुखार के सभी मामलों की निगरानी के लिए स्टेट-वाइज अभियान के माध्यम से स्वाइन फ्लू को मॉनिटर करने का प्रयास जारी है, खासकर ग्रामीण इलाकों में जहां स्वाइन फ्लू के बारे में जागरूकता कम है। “स्थिति पर नज़र रखने के लिए नियमित वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की जा रही हैं। मंत्रालय ने राज्यों को सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाने और प्रतिक्रिया देने के लिए जिला कलेक्टरों को शामिल करने की सलाह दी है।

गुजरात में 43 के बाद पंजाब में सबसे अधिक 30 मृत्यु दर्ज की गई, जबकि 2019 में 6,600 से अधिक मामले दर्ज किए गए थे। हरियाणा में 490 मामले और 2 मौतें हुई हैं।स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री विपिन सिंह परमार ने मंगलवार को कहा कि इस साल हिमाचल प्रदेश में सोलह लोगों की जान चली गई है।

Related Article:HIV, TB, और Malaria से कहीं ज़्यादा है सर्जरी से मरने वालों की संख्यां: द लैंसेट

परमार ने सदन को बताया कि 1 जनवरी 2019 से, 321 मामलों का परीक्षण किया जिसमे 105 लोगों को मौसमी फ्लू में पॉजिटिव पाया गया। मंत्री ने कहा कि हिमाचल ने पिछले चार वर्षों (2015-18) के दौरान 123, 14, 77 और सात मामलों की रिपोर्ट की थी और अवधि के दौरान मौतों की संख्या क्रमशः 27, 5, 15 और दो थी।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि एक महीने से भी कम समय में 11 लोगों की स्वाइन फ्लू से मौत के बाद उत्तराखंड में भी अलर्ट जारी किया गया।

H1N1 सहित मौसमी इन्फ्लूएंजा वायरस दुनिया भर में 3 से 5 मिलियन लोगों को संक्रमित करता है और हर साल लगभग 650,000 लोग अपना जीवन खो देते हैं, ऐसा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) का अनुमान है। अधिकांश मामलों में, यह सिरदर्द, बुखार, नाक बहना, खांसी और मांसपेशियों में दर्द के लक्षण हैं।

स्वाइन फ्लू ‘H1N1’ वायरस के कारण होता है जो सबसे ज्यादा प्रचलित और संक्रामक वायरस में से एक है। स्वाइन फ्लू की तीन श्रेणियां हैं- ए, बी, और सी जबकि श्रेणी ए और श्रेणी बी का इलाज आसानी से घर पर किया जा सकता है। श्रेणी सी में आमतौर पर तत्काल अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है, अगर उपचार न किया गया तो मृत्यु हो सकती है।

Related Article:विश्व एड्स दिवस: क्या है भारत का हाल?

राजधानी दिल्ली का हाल

भारत की राजधानी दिल्ली में इन्फ्लूएंजा ए (एच1एन1) यानी स्वाइन फ्लू के 124 नए मामले दर्ज होने के बाद शहर में इससे प्रभावित लोगों की संख्या बढ़कर 1019 हो गई है| एक नयी रिपोर्ट से मिली जानकारी के मुताबिक़ स्वाइन फ्लू से एक व्यक्ति की मौत की खबर सामने आयी है|

दिल्ली के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय द्वारा मंगलवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार शहर में सोमवार तक 895 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई जिनमें 712 वयस्क और 183 बच्चे हैं|

रिपोर्ट के अनुसार, वयस्कों के कम से कम 104 और बच्चों के 20 नए मामले दर्ज किए गए हैं जबकि बीमारी से एक व्यक्ति की मौत भी हो गई है| सोमवार तक दिल्ली सरकार ने स्वाइन फ्लू से किसी के मरने की रिपोर्ट नहीं की थी लेकिन मंगलवार की रिपोर्ट में एक व्यक्ति के मरने की बात सामने आयी|

Related Article:SC Rules ‘No Discrimination of Leprosy Patients’ Ending Stigma

हाल ही में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने हर अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्रों को बीमारी के उपचार, प्रबंधन, टीकाकरण, पृथक व्यवस्था, जोखिम के वर्गीकरण और रोकथाम उपायों के बारे में दिशा निर्देश जारी किए हैं|

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘सभी अस्पतालों को वेंटिलेटर तैयार रखने और रोग से रोकथाम के लिये सूचना प्रसारित करने को कहा गया है|’

Summary
Article Name
Swine flu records 6,700 cases across the country ,226 deaths ,More than 1000 cases registered in Delhi
Description
भारत में 3 फरवरी तक स्वाइन फ़्लू के कुल 6,701 मामलों में से 226 की मौत की पुष्टि की गयी है, जबकि 2018 में 798 मामलों में 68 मौतें हुई थी| आखिरी सप्ताह में कुल मामलों के एक तिहाई (2,101) के करीब मौतें सामने आयी हैं| राजस्थान में सर्वाधिक 34 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए हैं| इसके अलावा हरियाणा और दिल्ली में भी स्वाइन फ्लू के अच्छे खासे मामले सामने आये हैं|
Author
Publisher Name
The Policy Times