वियतनाम 2020 तक विकसित देशो की लिस्ट में अपनी जगह बनाएगा

लंबे समय से युद्ध में उलझा रहा ये देश आज दक्षिण-पूर्व एशिया में सबसे तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था के रूप में अपनी पहचान बना रहा है| वियतनाम ने आज बहुत तरक्की कर ली है| यहां के लोगों की जीवटता और जुझारूपन ने देश को एक मजबूत आर्थिक व्यवस्था में बदल दिया है|

0
300 Views

Highlights:

  • सन 2020 तक विकसित देशो की लिस्ट में अपनी जगह बनाएगा वियतनाम
  • साल 2017 वियतनाम ने $220 अरब का निर्यात किया था जिसके बाद यह दुनिया में 21 सबसे बड़ा निर्यातक देश बन गया|
  • निर्यातकपड़ा, जूते, कोयला, स्टील, सीमेंट, कांच, टायर, पेपर उद्योग|
  • उत्पादकधान, कॉफी, रबर, कपास, चाय, मिर्च, सोयाबीन, काजू, गन्ना, मूंगफली, केला
  • चावल यहां का मुख्य खाद्य पदार्थ है|
  • वियतनाम की कॉफी विश्वभर में काफी मशहूर है, इसके अलावा यहां उपजाया जाने वाले काजू भी चर्चे में रहता है|

साल 2020 तक विकसित देशो की लिस्ट में अपनी जगह बनाने का दावा करने वाला वियतनाम एशिया में हिंदचीन प्रायद्वीप के पू्र्वी सीमा पर स्थित है, जिसका आधिकारिक नामसमाजवादी वियतनाम गणतंत्रहै| 127,881 वर्ग किलोमीटर में फैला वियतनाम दुनिया का तेरहवां सबसे ज्यादा आबादी वाला देश है जिसकी जनसँख्या करीब 9 करोड़ 50 लाख है | यहां प्रमुख भाषावियतनामीहै लेकिनअंग्रेजीयहां की दूसरी भाषा बन रही है जबकि कुछ आवादी फ्रेंच भी बोलने सक्षम हैं|

वियतनाम में लगभग 50 से अधिक जातीय समूह रहते है जो देश की विविधता को दर्शाता है| इन पचास जातीय समूहों में सबसे बड़ा जातीय समूहकिन्ह’ (Kinh) हैं जिनकी आबादी लगभग 85% है| उसके बाद अन्य महत्वपूर्ण अल्पसंख्यक समूहों में 1.9% पर थाई, 1.8% पर थाई, 1.5% पर मूंग और 1.5% आबादी पर खमेर क्रॉम शामिल हैं|

वर्ष 2017 के आंकड़ों के मुताबिक महिला और पुरुष लिंगानुपात की बात करें तो, वियतनाम में पुरुष संख्या का अनुपात 71.2 प्रतिशत रहा वहीँ, महिला अनुपात 76.4 है यानी महिलाओं का अनुपात वियतनाम देश में सबसे अधिक है|

साउथईस्ट एशिया का छोटा सा खुबसूरत और शांत देश वियतनाम इंडोनेशिया, फिलीपींस और थाईलैंड से समुद्री सीमा को अलग अलग हिस्सों में बांटता है|  वियतनाम देश की सीमा उत्तर में चीन, पश्चिम में लाओस और कंबोडिया, दक्षिणपश्चिम में थाईलैंड, और फिलीपींस, मलेशिया, इंडोनेशिया से लेकर दक्षिण चीन सागर तक पूर्व और दक्षिणपूर्व तक है, जो देश को एक अलग पहचान देती है|

लंबे समय से युद्ध में उलझा रहा ये देश आज दक्षिणपूर्व एशिया में सबसे तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था के रूप में अपनी पहचान बना रहा है| वियतनाम ने आज बहुत तरक्की कर ली है| यहां के लोगों की जीवटता और जुझारूपन ने देश को एक मजबूत आर्थिक व्यवस्था में बदल दिया है| बेशक आज भी इस आर्थिक उन्नति का फायदा देश के मध्यम और निम्न वर्ग तक उस अनुपात से नहीं पहुंचा है लेकिन सभी का मानना है कि युद्ध के दिनों की तुलना में वियतनामी लोगों के जीवन स्तर में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है|

लंबे समय से युद्ध की विभीषिका झेलने के बाद 1986 के बाद नए कम्युनिस्ट नेताओं के आने से वियतनाम में आर्थिक सुधारों का दौरशुरू हुआ| 1994 में वियतनामअमेरिका के बीच नए रिश्तों की शुरुआत हुई| इसके साथ ही नियोजित अर्थव्यवस्था से समाजवादी बाजार अर्थव्यवस्था की ओर जाने से वियतनाम में उन्नति की गति तेजी से बढ़ी| अंत में 2007 में वियतनाम विश्व व्यापार संगठन का सदस्य बना|

यहां की करेंसी को डोंग कहा जाता है| पिछले कुछ सालों में चीन की तरह वियतनाम भी तेजी से विकास कर रहा है| यहां खाद्य प्रसंस्करण, कपड़ा, जूते, कोयला, स्टील, सीमेंट, कांच, टायर, पेपर उद्योग विकसित हुए जो देश के निर्यात में तेजी से बढ़ें हैं| वहीं, कृषि में धान, कॉफी, रबर, कपास  चाय, मिर्च, सोयाबीन, काजू, गन्ना, मूंगफली, केला आदि की पैदावार ने भी देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान की है| वियतनाम की कॉफी विश्वभर में काफी मशहूर है| इसके अलावा यहां उपजाया जाने वाले काजू भी चर्चे में रहता है| इन सभी के अलावा चावल यहां का मुख्य खाद्य पदार्थ है|

पिछले साल भारत और वियतनाम के बीच व्यापार और निवेश सबंधो को लेकर सहमती हुई थी जिसमें आर्थिक एवं कारोबार सहयोग को बढ़ावा देना, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) और वियतनाम के कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्रलय के बीच प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण संबंधी करार  एवं परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग संबंधी एमओयू शामिल हैं|

वियतनाम में एक बड़ाखाद्य प्रसंस्करण उद्योग’ (Food Processing Industry) है| वियतनाम के कारखानों में अमेरिकी बाजार के लिए मछली के बुरादे (Frozen Fish Fillets) और जापानी बाजार के लिए बैंगन के स्लाइस का उत्पादन होता है| एक वेबसाइटwww.Foodexport.orgके अनुसार, वियतनाम के खाद्य प्रसंस्करण उद्योग ने पिछले कुछ वर्षों में खुदरा क्षेत्र की वृद्धि के साथ तेजी से विस्तार किया है|

आयात-निर्यात

‘आर्थिक जटिलता सूचकांक 2017’ के रिपोर्ट के मुताबिक, अर्थव्यवस्था के मामले में वियतनाम दुनिया का सबसे बड़ा देश है| साल 2017 वियतनाम ने $220 अरब का निर्यात किया था जिसके बाद यह दुनिया में 21 सबसे बड़ा निर्यातक देश बन गया|  पिछले पांच वर्षों की बात की जाए तो वियतनाम का निर्यात 13.5% की वार्षिक दर से बढ़ा है| वर्ष 2012 में $116 अरब से 2017 में $220 अरब तक पहुँच गया| वहीँ, अगर आयात के क्षेत्र पर नज़र डाले तो वर्ष 2017 में वियतनाम ने 204 अरब डॉलर का आयात किया था जिसमें यह दुनिया का 21वां सबसे बड़ा आयातक बन गया|

पिछले पांच वर्षों के दौरान आयात वियतनाम 14.4% की वार्षिक दर से बढ़ गया है, 2012 में $ 102 अरब से 2017 में $ 204 अरब तक| वर्ष 2017 में वियतनाम के सकल घरेलू उत्पाद $223 अरबों का था और प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद $ 6.78 हजारों था| वियतनाम के शीर्ष निर्यात स्थलों में प्रसारण उपकरण ($30.7 अरबों) का सबसे अधिक निर्यात होता है और टेलीफोन उपकरण का सबसे अधिक आयात होता है|

शीर्ष निर्यात देशों में अमेरिका ($46.2 अरब), चीन ($39.9 अरब), जापान ($18.1 अरब), दक्षिण कोरिया  ($16.1 अरब) और जर्मनी ($10.9 अरब) हैं| शीर्ष आयात मूल चीन ($70.6 अरब), दक्षिण कोरिया ($47.7 अरब), जापान ($13.1 अरब), सिंगापुर ($11.8 अरब) और हाँग काँग ($10.1 अरब) रहे हैं|

संस्कृति और शिक्षा

अगर वियतनाम की संस्कृति और शिक्षा की एक झलक देखे तो यहाँ की साक्षरता दर 94 फीसदी है| यहां के स्कूल में आज भी घंटियों के बजाय पारंपरिक गौंग बजते हैं| इसके अलावा तमाम विकासशील देशों में शुमार होने के बावजूद इस देश की सबसे बड़ी खासियत यह है कि वियतनाम की बेरोजगारी दर सबसे कम है| यहां की भाषा में 6 अलगअलग टोन हैं| ये अलगअलग टोन शब्दों के मायने तक बदल देती हैं| यही वजह है कि वियतनाम की भाषा को सीखना मुश्किल होता है|

Summary
Article Name
वियतनाम 2020 तक विकसित देशो की लिस्ट में अपनी जगह बनाएगा
Description
लंबे समय से युद्ध में उलझा रहा ये देश आज दक्षिण-पूर्व एशिया में सबसे तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था के रूप में अपनी पहचान बना रहा है| वियतनाम ने आज बहुत तरक्की कर ली है| यहां के लोगों की जीवटता और जुझारूपन ने देश को एक मजबूत आर्थिक व्यवस्था में बदल दिया है|
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES