अजमेर दरगाह प्रमुख ने किया था पुलवामा हमले का विरोध, भारत ने पाकिस्तानी श्रद्धालुओं को वीजा देने से किया इनकार

पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच अभी भी तनाव जारी है। भारत ने अजमेर शरीफ जाने की इच्छा रखने वाले करीब 500 पाकिस्तानी श्रद्धालुओं को वीजा देने से इनकार कर दिया है| रेडियो पाकिस्तान के अनुसार, पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के मंत्री पीर नूर-उल-हक कादरी ने बताया कि 500 पाकिस्तानी श्रद्धालुओं को गुरुवार को पड़ोसी देश जाना था लेकिन भारत ने उन्हें वीजा देने से इनकार कर दिया|

0
Ajmer Dargah chief had opposed the Pulwama attack,India refused to grant visas to Pakistani pilgrims |

पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच अभी भी तनाव जारी है। भारत ने अजमेर शरीफ जाने की इच्छा रखने वाले करीब 500 पाकिस्तानी श्रद्धालुओं को वीजा देने से इनकार कर दिया है| रेडियो पाकिस्तान के अनुसार, पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के मंत्री पीर नूर-उल-हक कादरी ने बताया कि 500 पाकिस्तानी श्रद्धालुओं को गुरुवार को पड़ोसी देश जाना था लेकिन भारत ने उन्हें वीजा देने से इनकार कर दिया|

कादरी ने बताया कि मंत्रालय ने भारतीय दूतावास से वीजा ठुकराने की सूचना मिलने के बाद एसएमएस के जरिए सभी श्रद्धालुओं को इसकी सूचना दी| उन्होंने बताया कि भारतीय दूतावास ने अभी इन श्रद्धालुओं के पासपोर्ट वापस नहीं किए हैं| रेडियो पाकिस्तान के अनुसार, कादरी ने कहा कि पाकिस्तान ने एक साल में 5,600 सिख तीर्थयात्रियों को वीजा दिया जबकि 312 हिंदू श्रद्धालुओं को भी वीजा दिए|

Related Article:अजमेर दरगाह धमाका:11 साल बाद पकड़ा गया आरोपी

उन्होंने यह भी कहा, ” भारत सरकार अब आगामी अजमेर शरीफ उर्स में किसी भी पाकिस्तानी जत्थे को आने की अनुमति ना दे| इस दौरान अजमेर दरगाह के दीवान ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान हुकूमत भारत भेजने वाले जत्थे में अपने एजेंट भी भेजता है| जिससे कई गुप्त जानकारियां भारत से हासिल करता है, जो देश की सुरक्षा व्यवस्था के लिए खतरनाक है|”

श्रद्धालुओं के पासपोर्ट भी वापस नहीं किए

पाकिस्तान के मंत्री कादरी ने सोमवार को कहा, भारत ने अजमेर शरीफ जाने वाले करीब 500 पाकिस्तानी श्रद्धालुओं का वीजा मंजूर करने से इंकार कर दिया है। कादरी ने बताया, भारतीय दूतावास से वीजा रद्द किए जाने की सूचना मिलने के बाद मंत्रालय ने सभी श्रद्धालुओं को SMS के जरिये यह जानकारी दी उन्होंने यह भी कहा कि, भारतीय दूतावास ने अब तक उन श्रद्धालुओं के पासपोर्ट वापस नहीं किए हैं। यह कदम भारत के उग्र रूप को जाहिर करता है।

Related Article:राजस्थान में इन 5 कारणों से हारी बीजेपी

दरगाह प्रमुख ने किया था पुलवामा हमले का विरोध

अजमेर शरीफ दरगाह के प्रमुख ने पुलवामा की घटना का विरोध किया था| जम्मू कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए दरगाह दीवान सैय्यद जैनुल आबेदीन अली खान ने कहा है कि भारत सरकार सालाना उर्स में आने वाले यात्रियों के जत्थे को तत्काल रोके, क्योंकि पाकिस्तान उर्स यात्रा के बहाने अपने एजेंट को भेजकर भारत के खिलाफ जानकारियां इकट्ठा करता है| राजस्थान के अजमेर में हैं ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह जहां पाकिस्तानी श्रद्धालु पहुंचते हैं।

Summary
Article Name
Ajmer Dargah chief had opposed the Pulwama attack,India refused to grant visas to Pakistani pilgrims |
Description
पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच अभी भी तनाव जारी है। भारत ने अजमेर शरीफ जाने की इच्छा रखने वाले करीब 500 पाकिस्तानी श्रद्धालुओं को वीजा देने से इनकार कर दिया है| रेडियो पाकिस्तान के अनुसार, पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के मंत्री पीर नूर-उल-हक कादरी ने बताया कि 500 पाकिस्तानी श्रद्धालुओं को गुरुवार को पड़ोसी देश जाना था लेकिन भारत ने उन्हें वीजा देने से इनकार कर दिया|
Author
Publisher Name
The Policy Times