लोकसभा चुनाव के पहले चरण में शेयर बाज़ार का बुरा हाल

चुनाव के दौरान शेयर बाज़ार में हलचल बनी रहती है| पिछले चुनाव की बात करें तो लोकसभा चुनाव 2014 के दौरान बाज़ार का रिकॉर्ड ऊँचाई तक पहुँच गया था| साल 2014 में चुनाव के दौरान बाज़ार पहली बार 25 हज़ार के अहम स्तर को पार किया था| इस दौरान सेंसेक्स में 1470 अंक की तेजी रही थी| वहीँ, अगर 2019 लोकसभा चुनाव की बात करें तो लोकसभा चुनाव के पहले चरण में बाज़ार का बुरा हाल रहा|

0

चुनाव के दौरान शेयर बाज़ार में हलचल बनी रहती है| पिछले चुनाव की बात करें तो लोकसभा चुनाव 2014 के दौरान बाज़ार का रिकॉर्ड ऊँचाई तक पहुँच गया था| साल 2014 में चुनाव के दौरान बाज़ार पहली बार 25 हज़ार के अहम स्तर को पार किया था| इस दौरान सेंसेक्स में 1470 अंक की तेजी रही थी| वहीँ, अगर 2019 लोकसभा चुनाव की बात करें तो लोकसभा चुनाव के पहले चरण में बाज़ार का बुरा हाल रहा|

Related Article:लोकसभा चुनाव 2019: इस बार कम रही वोटिंग दर, जानिए किस सरकार की ओर है आम जनता का रुझान

11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए वोट डाले गए| इस दिन शेयर बाज़ार तेजी नहीं दिखा सका और सपाट स्तर पर बंद हुआ| बीएसई के 31 कंपनियों के शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 21.66 अंकों मामूली तेजी के साथ 38,607.01 पर बंद हुआ| वहीं, नैशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 कंपनियों के शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 12.40 अंकों के मामूली उछाल के साथ 11,596.70 पर बंद हुआ| इससे पहले के लोकसभा चुनाव में बाज़ार का स्तर गिरा है लेकिन इन सबके बावजूद आज तक बाज़ार तेजी नहीं पकड़ सका| इस बार बीएसई पर 17 कंपनियों के शेयर हरे निशान पर तो 13 कंपनियों के शेयर लाल निशान पर बंद हुए|

Related Article:पिछले 9 वर्षों में भारत की जनसंख्या वृद्धि दर चीन से आगे निकल गई: रिपोर्ट

वहीं, एनएसई पर 28 कंपनियों के शेयरों में लिवाली, जबकि 21 कंपनियों के शेयरों में बिकवाली दर्ज की गई, जबकि एक कंपनी के शेयर में कारोबार नहीं हुआ| जबकि अगर बढ़त दिखाने वाले शेयरों की बात की जाए तो सेंसेक्स में भारती एयरटेल, बजाज फाइनैंस और टाटा मोटर्स डीवीआर के शेयर में तेजी देखने को मिली| जबकि निफ्टी में इंडियाबुल हाउजिंग फाइनैंस,बजाज ऑटो और डॉ. रेड्डी के शेयर में बढ़त दे

Summary
Article Name
Bad condition of Stock Market in the first phase of Lok Sabha election
Description
चुनाव के दौरान शेयर बाज़ार में हलचल बनी रहती है| पिछले चुनाव की बात करें तो लोकसभा चुनाव 2014 के दौरान बाज़ार का रिकॉर्ड ऊँचाई तक पहुँच गया था| साल 2014 में चुनाव के दौरान बाज़ार पहली बार 25 हज़ार के अहम स्तर को पार किया था| इस दौरान सेंसेक्स में 1470 अंक की तेजी रही थी| वहीँ, अगर 2019 लोकसभा चुनाव की बात करें तो लोकसभा चुनाव के पहले चरण में बाज़ार का बुरा हाल रहा|
Author
Publisher Name
The Policy Times