बिहार शेल्टर होम रेप : दिल्ली में जन अधिकार छात्र परिषद का फूटा गुस्सा !

बच्चियों और महिलाओं के प्रति यौन शोषण के मामले बढ़ते जा रहे है जो सरकार और कानून की असफलता को उजागर करता है| ज़रूरत है सरकार इसे गंभीरता से लें और ज़मीनी स्तर पर महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा के लिए ख़ास इंतज़ाम किए जाए ताकि बढ़ते बलात्कार के मामलों पर लगाम लगाई जा सकें|

0
Bihar Shelter Home Rape Case
181 Views

मुजफ्फरपुर के बालिका गृह का सच का पर्दा खुल चूका है और इसका असर देश की राजधानी में भी देखा जा सकता है जहाँ इसके विरोध में जन अधिकार छात्र परिषद् ने दिल्ली के बिहार भवन में जमकर प्रदर्शन किया| इस प्रदर्शन का नेतृत्व ज़ैद खान ने किया| जब ‘द पालिसी टाइम्स’ के रिपोर्टर ने ज़ैद खान से बातचीत की तब उनका कहना था कि देश में महिलाएँ और बेटियाँ असुरक्षित है| इसके साथ-साथ ज़ैद ने कठुआ और उन्नाव रेप का हवाला देते हुए अपनी नाराजगी भी ज़ाहिर की| बता दें कि इस प्रदर्शन के माध्यम से छात्रों ने बिहार सरकार के रेजिडेंट कमिश्नर के समक्ष निम्न मांगे रखी, जाने –

  1. मुजफ्फरपुर में मासूम बालिकाओं के साथ बलात्कार करने वालों को गिरफ्तार किया जाए।
  2. मुजफ्फरपुर कांड पर राज्य सरकार बाल गृह अधीक्षक व कर्मचारियों को नौकरी से सेवा निर्विरित किया जाए।
  3. पीड़ित बच्चियों को बिहार सरकार 20-20लाख रूपए राहत व उज्जवल भविष्य के लिए दें। पीड़ित बच्चियों को नि:शुल्क उच्च शिक्षा राज्य सरकार के कोष से दिया जाए तकि उनके भविष्य को सवांरा जा सके ।
  4. मुजफ्फरपुर काण्ड के प्रमुख अभियुक्त बिहार सरकार के समाज कल्याण मंत्री को पद से हटाया जाए व उनके पति को गिरफ्तार किया जाए।

इसके आगे आक्रोशित छात्रों का कहना है कि अगर हमारी माँग पूरी नहीं हुई तो बिहार सरकार के रेजिडेन्ट कमिश्नर कार्यालय दिल्ली के समक्ष आमरण अनशन करेंगे। इस प्रदर्शन में जैद खाँ(प्रदेश अध्यक्ष JACP), साजिद खान, रंजीत कुमार पांडेय, आशुतोष रॉय, मुनाजिर, धीरज, अखिलेश, गौतम झा, मनोज गुप्ता, अब्दुल खालिक, फज्जिल अहमद, अकबर अली, सज्जाद, तोरब, दानीश शामिल थे एवं अन्य क्रांतिकारियों ने भी अपनी भागीदारी से इस प्रदर्शन को मजबूती दी|

यह कहने की ज़रूरत नहीं है लेकिन जिस तरह से देश में दरिंदगी का माहौल अपनी चरम सीमा को छूता जा रहा है, सवाल उठना लाज़िमी है| क्या यह वही सरकार है जिसने अच्छे दिन का वादा किया था? क्या यह वही सरकार है जिसने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जैसे आंदोलन को व्यापक रूप से देशव्यापी बनाने का ऐलान किया था? हमारी सरकार ने  बेटी बचाओ के नारे तो दिए पर उन औरतों का क्या जो वह्सियों के हवस का शिकार हो रही है? उन मासूम बेटियों का क्या जिसके साथ 7 साल या उससे भी कम उम्र की बच्चियों के साथ बलात्कार किया जाता है?

बच्चियों और महिलाओं के प्रति यौन शोषण के मामले बढ़ते जा रहे है जो सरकार और कानून की असफलता को उजागर करता है| ज़रूरत है सरकार इसे गंभीरता से लें और ज़मीनी स्तर पर महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा के लिए ख़ास इंतज़ाम किए जाए ताकि बढ़ते बलात्कार के मामलों पर लगाम लगाई जा सकें|

Summary
बिहार शेल्टर होम रेप : दिल्ली में जन अधिकार छात्र परिषद का फूटा गुस्सा !
Article Name
बिहार शेल्टर होम रेप : दिल्ली में जन अधिकार छात्र परिषद का फूटा गुस्सा !
Description
बच्चियों और महिलाओं के प्रति यौन शोषण के मामले बढ़ते जा रहे है जो सरकार और कानून की असफलता को उजागर करता है| ज़रूरत है सरकार इसे गंभीरता से लें और ज़मीनी स्तर पर महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा के लिए ख़ास इंतज़ाम किए जाए ताकि बढ़ते बलात्कार के मामलों पर लगाम लगाई जा सकें|
Author
Publisher Name
The Policy Times
Publisher Logo