ब्रिटेन ने नीरव मोदी को गिरफ्तार करने के लिए मांगे थे कागज़ात, भारत ने नहीं दी प्रतिक्रिया: रिपोर्ट

पंजाब नेशनल बैंक के फ्रॉड मामले के आरोपी हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ सरकार ने जोर देकर कहा कि उसके खिलाफ मुकदमा चलाने और उसे प्रत्यर्पित करने के प्रयासों में भारत की ओर से कोई देरी नहीं हुई| वहीँ, एनडीटीवी को पता चला है कि इन दावों के विपरीत वास्तव में, यूके की एक कानूनी टीम ने भी नीरव मोदी के खिलाफ कार्रवाई में मदद करने के लिए भारत आने की पेशकश की थी लेकिन कथित तौर पर भारत से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली|

0
Britain wants the paper to arrest Nirav Modi,India did not respond: report
155 Views

पंजाब नेशनल बैंक के फ्रॉड मामले के आरोपी हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ सरकार ने जोर देकर कहा कि उसके खिलाफ मुकदमा चलाने और उसे प्रत्यर्पित करने के प्रयासों में भारत की ओर से कोई देरी नहीं हुई| वहीँ, एनडीटीवी को पता चला है कि इन दावों के विपरीत वास्तव में, यूके की एक कानूनी टीम ने भी नीरव मोदी के खिलाफ कार्रवाई में मदद करने के लिए भारत आने की पेशकश की थी लेकिन कथित तौर पर भारत से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली|

एनडीटीवी को लंदन के सीरियस फ्रॉड ऑफिस से पता चला है कि पहली बार भारत ने ब्रिटेन को जो अलर्ट भेजा था वह फरवरी 2018 में म्यूचुअल लीगल असिस्टेंस ट्रीटी (एमएलएटी) के तहत था| यह सीबीआई द्वारा नीरव मोदी और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में 13 हज़ार करोड़ रुपए की कर चोरी के आरोप में पहली बार आपराधिक मामला दर्ज करने के तुरंत बाद भेजा गया था|

Related Article:Rs 2, 400 crore scam unearthed in Tamil Nadu’s noon meal scheme

इस बीच भारत में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में आरोपी नीरव मोदी के खिलाफ मनी लांड्रिंग रोधी कानून के तहत एक अनुपूरक आरोप पत्र दायर किया है| अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी|

अधिकारियों ने बताया कि हीरा कारोबारी तथा अन्य के खिलाफ यह आरोप पत्र मुंबई स्थित विशेष मनी लांड्रिंग रोधी कानून अदालत के समक्ष दायर किया गया है| एजेंसी ने इसमें अभियुक्तों के विरुद्ध जुटाये गए अतिरिक्त सबूतों और कुर्क की गई संपत्ति को रिकार्ड कराया है| अनुपूरक आरोप पत्र के ब्यौरे की प्रतीक्षा है|

ब्रिटेन के एक समाचार पत्र ने नीरव मोदी के लंदन के वेस्ट एंड इलाके में 80 लाख पौंड के आलीशान अपार्टमेंट में रहने और नए सिरे से हीरा कारोबार शुरू करने की जानकारी दी है| अखबार की रिपोर्ट के दो दिन बाद यह नया घटनाक्रम हुआ है|

Related Article:Rafale Jets: Bofors of the 21st Century?

ईडी ने 9 मार्च को कहा था कि ब्रिटेन के गृह मंत्री ने नीरव के प्रत्यर्पण के भारत के आग्रह को हाल ही में आगे की कार्रवाई के लिए अदालत को प्रेषित किया है| ईडी ने नीरव मोदी और अन्य के खिलाफ बैंक धोखाधड़ी के मामले में पिछले साल मई में पहला आरोप पत्र दायर किया था| केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और ईडी पीएनबी की मुंबई स्थित ब्रेडी हाउस शाखा में हुए कथित घोटाले की जांच कर रहे है| इसमें नीरव मोदी और उनके मामा मेहुल चोकसी तथा अन्य लोगों की संलिप्तता को लेकर ये एजेंसियां जांच कर रही हैं|

बता दें कि कुछ दिन पहले भगोड़े नीरव मोदी को लंदन की सड़कों में सरेआम घूमते देखा गया था| एक अंग्रेजी अखबार के संपादक ने जब उनसे कुछ सवाल किए तो वे ‘नो कमेंट्स’ कह कर वहां से चले गए थे| इस दौरान नीरव मोदी ने लाखो रूपए की जैकेट पहन रखी थी और लुक भी बदला हुआ था|

Summary
Article Name
Britain wants the paper to arrest Nirav Modi,India did not respond: report
Description
पंजाब नेशनल बैंक के फ्रॉड मामले के आरोपी हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ सरकार ने जोर देकर कहा कि उसके खिलाफ मुकदमा चलाने और उसे प्रत्यर्पित करने के प्रयासों में भारत की ओर से कोई देरी नहीं हुई| वहीँ, एनडीटीवी को पता चला है कि इन दावों के विपरीत वास्तव में, यूके की एक कानूनी टीम ने भी नीरव मोदी के खिलाफ कार्रवाई में मदद करने के लिए भारत आने की पेशकश की थी लेकिन कथित तौर पर भारत से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली|
Author
Publisher Name
The Policy Times