जेएनयू में बंद हो सकती है कैंटीन, फूड कोर्ट खोलने की गुंजाइश

भारत के अग्रणी संस्थानों में से एक जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) के परिसर में एक नया बदलाओं देखने को मिल सकता है| मंगलवार को हुई एग्जिक्यूटिव काउंसिल (ईसी) की मीटिंग में तय किया गया कि साफ और सस्ते खाने की स्टूडेंट्स की मांगों को देखते हुए कैंपस में अलग-अलग लोकेशन पर फूड कोर्ट खोलने की गुंजाइश तलाशी जाएगी जहा पर विद्यार्थी, शिक्षक, और कर्मचारी अपने परिवार के साथ खाने का लुफ्त उठा सकेंगे|

0
Canteen may be closed in JNU
6 Views

भारत के अग्रणी संस्थानों में से एक जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) के परिसर में एक नया बदलाओं देखने को मिल सकता है| मंगलवार को हुई एग्जिक्यूटिव काउंसिल (ईसी) की मीटिंग में तय किया गया कि साफ और सस्ते खाने की स्टूडेंट्स की मांगों को देखते हुए कैंपस में अलग-अलग लोकेशन पर फूड कोर्ट खोलने की गुंजाइश तलाशी जाएगी जहा पर विद्यार्थी, शिक्षक, और कर्मचारी अपने परिवार के साथ खाने का लुफ्त उठा सकेंगे|

जेएनयू रजिस्ट्रार डॉ. प्रमोद कुमार ने बताया कि इससे देश के अलग-अलग हिस्से से आ रहे स्टूडेंट्स को फूड की वैरायटी मिलेगी| साथ ही उन्हें बैठकर बातचीत करने के लिए नई जगहें भी मिलेंगी| उन्होंने कहा काउंसिल ने यह भी तय किया है कि कैंपस में मौजूद जो कैंटीन नियमों का पालन नहीं कर रही है उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा| साथ ही नई कैंटीन चलाने के लिए नए टेंडर जारी किए जाएंगे|

रजिस्ट्रार के मुताबिक ईसी ने परिसर में मौजूद ऐसी कैंटीनो के खिलाफ उपयुक्त कारवाई करने का फैसला लिया है जो न नियमों का पालन कर रही है और ना ही विद्यार्थियों को साफ़ और सस्ता खाना उपलब्ध करा रही है|

स्टूडेंट्स यूनियन फैसले के खिलाफ

जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन इस फैसले के बिल्कुल खिलाफ है| यूनियन ने इस फैसले को प्रशासन की प्राइवेटाइजेशन की एक और कोशिश बताया है| यूनियन का कहना है कि प्रशासन सालों से कैंपस में चल रही छोटी दुकानों को बंद करके बड़े डीलर लाना चाहता है| प्रशासन ढाबा कल्चर को खत्म करके कॉर्पोरेट को लाना चाहता है| यूनियन के प्रेजिडेंट एन साईं बाला का कहना है कि इन मुद्दों पर बात करने के लिए कैंपस डिवेलपमेंट कमिटी की मीटिंग भी नहीं बुलाई गई|

इस मसले पर यूनियन प्रेजिडेंट ने कहा कि यह प्राइवेटाइजेशन की ओर जेएनयू का एक और कदम है| जेएनयू रजिस्ट्रार ने यह भी बताया कि नए फूड कोर्ट के लिए जो टेंडर प्रोसेस रखी जाएगी उसमें उन कैंटीन को शामिल नहीं होने दिया जाएगा जिन्होंने साफ-सफाई, कीमत को लेकर जेएनयू के नियमों को उल्लघंन किया है| इसके अलावा ईसी में फैसला लिया गया कि मेन लाइब्रेरी बिल्डिंग का एक कमरा बंद कराया जाएगा क्योंकि वहां फायर सेफ्टी के इंतजाम बेहतर किए जा रहे हैं|

Summary
Canteen may be closed in JNU
Article Name
Canteen may be closed in JNU
Description
भारत के अग्रणी संस्थानों में से एक जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) के परिसर में एक नया बदलाओं देखने को मिल सकता है| मंगलवार को हुई एग्जिक्यूटिव काउंसिल (ईसी) की मीटिंग में तय किया गया कि साफ और सस्ते खाने की स्टूडेंट्स की मांगों को देखते हुए कैंपस में अलग-अलग लोकेशन पर फूड कोर्ट खोलने की गुंजाइश तलाशी जाएगी जहा पर विद्यार्थी, शिक्षक, और कर्मचारी अपने परिवार के साथ खाने का लुफ्त उठा सकेंगे|
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo