डॉ निमिष कपूर ने मीडिया कवरेज में वैज्ञानिक स्वभाव पर की चर्चा

श्री कपूर ने कोरोना वायरस महामारी का ज़िक्र करते हुए दैनिक जीवन में विज्ञान संचार की प्रासंगिकता को समझाया। उन्होंने कहा, ‘‘ जनसंचार वैज्ञानिकों और जनता के बीच की खाई को पाटने में मदद करता है।’’

0

नोएडा: 28 जून को डी. एम. ई. मीडिया स्कूल द्वारा दुनिया के पहले 10-दिवसीय डिजिटल लाइव अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में डॉ. निमिष कपूर, साइंटिस्ट ‘ई’, प्रमुख, विज्ञान फिल्म्स डिवीजन, प्रकाशन विभाग, भारतीय विज्ञान समाचार और फीचर सेवा, विज्ञान प्रसार, विज्ञान विभाग ने ‘स्ट्रेथिनिंग सांइज कॉम्युनिकेशं इन कंमुनिटी एट ग्रासरूट’ पर चर्चा की।

इस दौरान श्री कपूर ने कोरोना वायरस महामारी का ज़िक्र करते हुए दैनिक जीवन में विज्ञान संचार की प्रासंगिकता को समझाया। उन्होंने कहा, ‘‘ जनसंचार वैज्ञानिकों और जनता के बीच की खाई को पाटने में मदद करता है।’’

उन्होंने मीडिया में कोरोना वायरस से जुड़ी गलत वैज्ञानिक जानकारी पर चर्चा की और कहा कि जनता को किसी भी वैज्ञानिक ज्ञान के प्रसार करने के लिए विषय पर उचित विशेषज्ञता हासिल होनी चाहिए।

उन्होंने सुझाव दिया, ‘‘ जनता तक स्पष्ट एवं सही खबरें पहुंचाने के लिए वैज्ञानिकों को इस तरह स्पष्ट रूप से बात करनी चाहिए कि वह आम जन को समझ में आ सके।’’ उन्होंने कहा कि तथ्यों से छेड़छाड़ किए बिना उसे खबर बनाना एक ऐसा गुण है, जिसे किसी भी वैज्ञानिक पत्रकार के अंदर होना चाहिए।

उन्होंने मीडिया छात्रों को जटिल भाषा को समझने और क्षेत्र में रुचि विकसित करने के लिए विज्ञान शोध पत्र पढ़ने की सलाह भी दी।

डीएमई मीडिया स्कूल के डीन एवं ICAN3 के आयोजन सचिव, डॉ अम्बरीष सक्सेना ने कहा कि कोरोना वायरस संकट के दौरान मीडिया में वैज्ञानिक कवरेज बढ़ा है और साथ ही उन्होंने आगामी वर्षों में इस क्षेत्र में और विकास की उम्मीद भी जाहिर की। डीएमई मीडिया स्कूल की हेड एवं ICAN3 की संयोजक डॉ सुस्मिता बाला ने सम्बोधन के साथ अतिथि का स्वागत किया।

डीएमई मीडिया स्कूल की सहायक प्रोफेसर कृतिका सती ने मास्टर क्लास का संचालन किया। बीए (जेएमसी) के द्वितीय वर्ष के छात्र सक्षम बक्शी सत्र के एंकर थे।

मास्टर क्लास के बाद दो तकनीकी सत्र हुए, जिनमें भारत में नए मीडिया की भूमिकाओं और जिम्मेदारी पर चर्चा की गई। दिन का पहला तकनीकी सत्र ‘’वैश्विक मामले, राजनीतिक संचार, चुनाव एवं लोकमत ’ पर आधारित था। इसकी अध्यक्षता डॉ उमा शंकर पांडेय, पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग, एसोसिएट प्रोफेसर एवम प्रमुख, सुरेंद्रनाथ कॉलेज फॉर वुमन, कोलकाता, पश्चिम बंगाल और सह-अध्यक्षता डॉ नज़रुल इस्लाम, एसोसिएट प्रोफेसर, जनसंचार विभाग और पत्रकारिता, बेगम रुक़य्या विश्वविद्यालय, रंगपुर, बांग्लादेश ने की।

सुश्री दीपिका धवन, सहायक प्रोफेसर, डीएमई मीडिया स्कूल ने सत्र का संचालन किया और बीए (जेएमसी) प्रथम वर्ष की छात्रा मुस्कान मल्होत्रा ने सत्र की एंकरिंग की।

वहीं दिन का दूसरा तकनीकी सत्र ‘डिस्कॉर्स इन मीडिया स्पेस एंड कंटेम्पररी नैरेटिव्स’ विषय पर आधारित था। इसकी अध्यक्षता, डॉ पल्लवी मजूमदार, संयुक्त अभिनय प्रमुख, एमिटी स्कूल ऑफ़ कम्युनिकेशन (ASCO), एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा और सह-अध्यक्षता श्री प्रमोद कुमार पांडेय, सहायक प्रोफेसर, डीएमई मीडिया स्कूल ने की।

सत्र में कई मुद्दों पर गहन शोध पत्र प्रस्तुत हुए। दूसरे वर्ष के बीए (जेएमसी) छात्र सक्षम बक्शी ने सत्र की एंकरिंग की।


Master Class 3: Strengthening Science Communication in Communities at Grassroots
https://www.facebook.com/watch/live/?v=885338378636484&ref=watch_permalink
Technical Session XI: Global issues, Political Communication, Elections and Public Opinion
https://www.facebook.com/watch/live/?v=1168074566906974&ref=watch_permalink
Technical Session XII: Discourse in Media Space and contemporary Narratives
https://www.facebook.com/watch/?v=553328285347128
For more content:
ICAN3 FACEBOOK: https://www.facebook.com/ican.dme/
ICAN3 INSTAGRAM: https://www.instagram.com/ican.dme/
ICAN3 LINKEDIN: https://www.linkedin.com/in/ican3-international-conference/
ICAN3YOUTUBE: https://www.youtube.com/playlist?list=PL5MVGfr9PYkha3hiCoDIBg9qr6p85CkrA
ICAN3 WEB: https://dme.ac.in/media-school/ican3-2020/

Summary
Article Name
डॉ निमिष कपूर ने मीडिया कवरेज में वैज्ञानिक स्वभाव पर की चर्चा
Description
श्री कपूर ने कोरोना वायरस महामारी का ज़िक्र करते हुए दैनिक जीवन में विज्ञान संचार की प्रासंगिकता को समझाया। उन्होंने कहा, ‘‘ जनसंचार वैज्ञानिकों और जनता के बीच की खाई को पाटने में मदद करता है।’’
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo