‘अगर सहयोगी चाहेंगे तो प्रधानमंत्री जरूर बनेंगे’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन हो सकता है। मध्य प्रदेश में बसपा के गठबंधन नहीं करने से कोई असर नहीं पड़ेगा, अगर गठबंधन होता तो बेहतर था।

0
if alliance agreed, I can became pm says rahul gandhi
56 Views

हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप शिखर सम्मलेन 2018  के 16 वें संस्करण में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोला। उन्होंने सरकार पर 130 करोड़ लोगों पर एक घुटनभरी विचारधारा को थोपने का आरोप लगाया। वहीं, आम चुनाव 2019 में प्रधानमंत्री उम्मीदवारी पर कांग्रेस अध्यक्ष बोले, “अगर सहयोगी चाहेंगे तो प्रधानमंत्री जरूर बनेंगे”। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार आम लोगों के साथ लड़ाई पर उतर आई है। जीएसटी और नोटबंदी के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि नोटबंदी की वजह से जीडीपी को दो फीसदी पीछे कर दिया है। जीएसटी को लेकर राहुल ने कहा कि इसपर हमारा एक अलग नजरिया था लेकिन सरकार नहीं सुनी।

विचारधारा के आधार पर कांग्रेस की है बीजेपी से लड़ाई

राहुल गांधी ने आगे कहा कि बीजेपी से उनकी लड़ाई विचारधारा के आधार पर है। वहीं, विदेश नीति को लेकर भी कांग्रेस अध्यक्ष ने सरकार को घेरा। राहुल गांधी ने कहा कि अगर दुनिया में कुछ हो रहा है तो आप उससे अछूता नहीं रह सकते हैं। विदेश नीति की कोई रणनीतिक सोच नहीं है। डोकलाम पर आप कभी एक नीति अपनाते हैं तो कभी दूसरी।

चुनाव से पहले बसपा आ सकती है साथ

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि मध्य प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करने के बसपा प्रमुख मायावती के फैसले का कांग्रेस की संभावनाओं पर असर नहीं होगा। उन्होंने यह भी कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बसपा साथ आ सकती है। मायावती ने कुछ दिनों पहले ही कहा था कि वह मध्यप्रदेश और राजस्थान के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी। उनके फैसले को भाजपा के खिलाफ विपक्ष के महागठबंधन बनाने के प्रयासों के लिये बड़ा झटका माना जा रहा है। राहुल गांधी ने कहा की मुझे नहीं लगता कि मध्य प्रदेश में बसपा के गठबंधन नहीं करने से हमारे ऊपर कोई विपरीत असर हो रहा है। बहरहाल, गांधी ने यह भी कहा कि अगर गठबंधन होता तो बेहतर होता। उन्होंने उम्मीद जताई कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना के आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस जीत हासिल करेगी।

Related Articles:

कांग्रेस सबको साथ लेकर चलती है

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन हो सकता है। मध्य प्रदेश में बसपा के गठबंधन नहीं करने से कोई असर नहीं पड़ेगा, अगर गठबंधन होता तो बेहतर था। उन्होंने उम्मीद जताई कि मप्र, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना के चुनाव में कांग्रेस जीत दर्ज करेगी। विधानसभा और लोकसभा चुनाव में गठबंधन में फर्क बताते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय चुनाव में विपक्षी पार्टियां साथ आएंगी, खासकर उत्तर प्रदेश में आएंगी।

आरएसएस पर बार-बार हमला किए जाने से जुड़े एक सवाल पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि एक तरह से वैचारिक युद्ध चल रहा है। भाजपा की विचारधारा को आरएसएस  परिभाषित करता है। भाजपा जिन मुख्य विचारों को लेकर लड़ रही है, वह आरएसएस के विचार हैं। दूसरी तरफ, कई नजरिए आरएसएस के खिलाफ लड़ रहे हैं और कांग्रेस इसका वैचारिक केंद्र हैं। राहुल ने कहा कि कांग्रेस खुद एक विचारधारा है। वह सबको जोड़ने, संवाद करने और सभी को साथ लेकर चलने की है। यह विचार अब तक सफल रहा है।

मंदिर जाना ‘सॉफ्ट हिंदुत्व’ नहीं

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, मेरा मंदिर जाना ‘सॉफ्ट हिंदुत्व’ नहीं है। पर इससे भाजपा को परेशानी होती है। भाजपा हर चीज पर अपना एकाधिकार चाहती है। मैं तो पिछले 16 सालों से मंदिर, गुरुद्वारा और मसजिद जा रहा हूं। पर गुजरात चुनाव से यह संकेत गया कि मैं सिर्फ मंदिर जा रहा हूं। यह बात मुझे अभी तक समझ नहीं आई कि मैं मंदिर, गुरुद्वारा, मसजिद और गिरजाघर क्यों नहीं जा सकता। हिंदू धर्म और हिंदुत्व में अंतर बताते हुए उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म एक दर्शन है जबकि हिंदुत्व एक राजनीतिक विचारधारा है।

सहयोगी दल चाहेंगे तो पीएम बनूंगा

राहुल गांधी ने कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद अगर सहयोगी दल चाहेंगे, तो वह प्रधानमंत्री बन सकते हैं। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को अधिक सीट मिलने की उम्मीद जताते हुए उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों ने यह फैसला किया है कि चुनाव में दो चरण की प्रक्रिया होगी। पहले चरण में हम मिलकर भाजपा को हराएंगे। चुनाव के बाद दूसरे चरण में प्रधानमंत्री के बारे में फैसला करेंगे। यह सवाल किए जाने पर अगर सहयोगी दल उन्हें प्रधानमंत्री बनाना चाहेंगे तो उनका क्या रुख होगा, कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि तब वह निश्चित तौर पर प्रधानमंत्री बनेंगे।

केंद्र की विदेश नीति पर सवाल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार की विदेश नीति पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की विदेश नीति में कोई रणनीतिक विचार नहीं है। डोकाला का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि सरकार एक बार कुछ करती है और उसके बाद कुछ और करती है। सरकार की विदेश नीति की वजह से ही नेपाल और मालदीव भारत से दूर हुए हैं। पाकिस्तान पर उन्होंने कहा कि  पाक एक अलग तरह का पड़ोसी है। वहां चार-पांच केंद्र है और समझ नहीं आता कि किससे बात करनी है। वह आतंकवादी घटनाएं भी कराता है। उन्होंने कहा कि अमेरिका और चीन के बीच हमें जगह बनानी होगी।

कैडर नहीं चाहिए

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी को आरएसएस की तरह कैडर वाली पार्टी बनाने से इनकार किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कभी आरएसएस की तरह कैडर नहीं बना सकती और उसे बनाना भी नहीं चाहिए। आरएसएस की कैडर व्यवस्था का मकसद संस्थाओं पर कब्जा करना है। हम ऐसा नहीं चाहते। हम चाहें भी तो ऐसा नहीं कर सकते, क्योंकि हमारा विचार ऐसा नहीं है। कांग्रेस सभी संस्थाओं को स्वतंत्र रखना चाहती हैं।

जीतने पर तीन काम

‘हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट’ में जब उनसे पूछा गया कि अगर कांग्रेस सत्ता में आई को वह कौन से तीन काम करेगी। उन्होंने कहा कि सबसे पहले छोटे और मझोले उद्योग को मजबूती प्रदान करुंगा। किसानों को यह यकीन दिलाऊंगा कि आप महत्वपूर्ण है। तीसरा काम वह उच्च स्तरीय मेडिकल और शिक्षा का इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने का करेंगे।

कृषि की स्थिति और बेरोजगारी बड़ी समस्या

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि इस वक्त सबसे बड़ी समस्या बढ़ती बेरोजगारी है। सरकार युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया कराने में नाकाम रही है। वहीं, किसान परेशान है। अपनी फसलों के सही दाम के लिए उसे आंदोलन करना पड़ रहा है। सरकार को इन दोनों विषयों पर ध्यान देना चाहिए। साथ उन्होंने गलत तरीके से जीएसटी लागू करने और नोटबंदी को लेकर भी सरकार को घेरा।

अपनी मां से धैर्य रखना सीखा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी मां और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने अपनी मां से बहुत कुछ सीखा है। उनसे धैर्य रखना सीखा है। राहुल ने कहा, मैं पहले बहुत ज्यादा धैर्यवान नहीं था, पर मेरी मां ने मुझे धैर्य सिखाया है। राहुल गांधी जिस वक्त बात कर रहे थे, उस वक्त सोनिया गांधी भी उन्हें सुन रही थीं। जब राहुल से पूछा गया कि क्या उनकी जिंदगी में कोई खास इंसान भी है, तो एक बार फिर राहुल ने मुस्कुरा कर जवाब दिया- ‘मेरी जिंदगी में बहुत से खास लोग हैं।’

 

Summary
‘अगर सहयोगी चाहेंगे तो प्रधानमंत्री जरूर बनेंगे’
Article Name
‘अगर सहयोगी चाहेंगे तो प्रधानमंत्री जरूर बनेंगे’
Description
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन हो सकता है। मध्य प्रदेश में बसपा के गठबंधन नहीं करने से कोई असर नहीं पड़ेगा, अगर गठबंधन होता तो बेहतर था।
Author
Publisher Name
The Policy Times
Publisher Logo