5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्‍यवस्‍था बनना दूर का सपना, ग्‍लोबल जीडीपी रैंकिंग में भारत 7वें स्‍थान पर फ‍िसला

भारत की सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी गिरने के बाद देश वैश्विक रैंकिंग में सातवें नंबर पर आ गया है। विश्व बैंक द्वारा वित्त वर्ष 2018 के आंकड़ों के मुताबिक, जीडीपी के मामले में ब्रिटेन और फ्रांस पांचवें और छठे स्थान पर पहुंच गए हैं। अमेरिकी अर्थव्यवस्था टॉप पर बनी हुई है। इसके बाद दूसरे पायदान पर चीन है। साल 2017 में भारत फ्रांस से आगे निकल गया था, लेकिन इस बार फिसल गया है।

0
159 Views


  • 2018 की जीडीपी की वैश्विक रैंकिंग में भारतीय अर्थव्यवस्था फिसलकर सातवें नंबर पर आ गई

  • विश्व बैंक के जुटाए आंकड़ों के हिसाब से ब्रिटेन और फ्रांस पांचवें और छठे स्थान पर पहुंचे
  • 20.5 ट्रिलियन डॉलर की जीडीपी के साथ टॉप पर बना हुआ है US
  • भारत की जीडीपी 2.7 ट्रिलियन डॉलर दर्ज की गई

भारत की सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी गिरने के बाद देश वैश्विक रैंकिंग में सातवें नंबर पर आ गया है। विश्व बैंक द्वारा वित्त वर्ष 2018 के आंकड़ों के मुताबिक, जीडीपी के मामले में ब्रिटेन और फ्रांस पांचवें और छठे स्थान पर पहुंच गए हैं। अमेरिकी अर्थव्यवस्था टॉप पर बनी हुई है। इसके बाद दूसरे पायदान पर चीन है। साल 2017 में भारत फ्रांस से आगे निकल गया था, लेकिन इस बार फिसल गया है।

विश्व बैंक की ताजा रिपोर्ट ने भारत के सबसे बड़े सपने को बड़ा झटका दिया है। रिपोर्ट के अनुसार जीडीपी की नई रैंकिंग के अनुसार भारत दो पायदान फिसलकर एक बार फिर से 7वें स्थान आ गया है। विश्व बैंक की ओर से यह आंकड़े 2018 के जारी किए हैं। वहीं ब्रिटेन और फ्रांस ने एक बार फिर से दो साल पहले वाली पोजिशन हासिल कर ली है। जानकारों की मानें तो भारत को यह नुकसान 2018 में डॉलर के मुकाबले रुपए का लगातार कमजोर होना बताया है। अब भारत के 5 सालों में 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है।

विश्व बैंक की रिपोर्ट 

2018 में भारत को जीडीपी के लिहाज से रैंकिंग में बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है। 2017 में पांचवें स्थान पर आया भारत अपनी इस पोजिशन को एक साल में गंवा बैठा है। वहीं ब्रिटेन और फ्रांस एक बार फिर से पांचवें और छठे स्थान पर आ गए हैं। आंकड़ों की मानें तो भारत की 2018 में अर्थव्यवस्था 2.7 ट्रिलियन डॉलर थी। इस आंकड़ें के साथ भारत 7वें स्थान पर है। जबकि ब्रिटेन 2.8 ट्रिलियन डॉलर की जीडीपी के साथ इस लिस्ट में पांचवें स्थान पर पहुंच गई है। वहीं फ्रांस 2.8 ट्रिलियन में कुछ अंतर से छठे स्थान पर आ गई है। वहीं टॉप 3 देशों की बात करें तो 20.5 ट्रिलियन डॉलर के साथ अमरीका पहले, चीन 13.6 ट्रिलियन डॉलर और 5 ट्रिलियन डॉलर की जीडीपी के साथ जापान तीसरी पोजिशन पर टिके हुए हैं।

जानकारों की मानें तो भारत, फ्रांस और ब्रिटेन के बीच काफी कम अंतर है। भारत के लिए अच्छा माहौल फिर रैंकिंग में सुधार ला सकता है, लेकिन भारत के लिए मौजूदा हालात फेवर में नहीं दिखाई दे रहे हैं। भारत की इकोनॉमी स्लोडाउन की ओर बढ़ रही है। तमाम एजेंसीज और आरबीआई खुद अनुमानित ग्रोथ रेट कम कर चुका है। ऐसे में भारत को थोड़ा इंतजार करने की जरुरत है। वहीं दूसरी ओर रुपए के मुकाबले डॉलर का कमजोर होना भी काफी जरूरी है। यही वजह है कि भारत पांचवें से 7वें स्थान पर फिसला है।

खराब स्थिति रहेगी जारी 

केडिया कमोडिटी के मैनेजिंग डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि भारत की इकोनॉमी आने वाले दिनों में और भी ज्यादा नुकसान में रह सकती है। उसका कारण है सभी सेकटर्स के नतीजे नकारात्मक है। वहीं विदेशी निवेशकों का अपना रुपया निकालना जारी रखा हुआ है। जो भारत की इकोनॉमी के लिहाज से बिल्कुल भी अच्छा नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि दूसरी तिमाही के नतीजे और भी बुरे हो सकते हैं। उसका कारण है मानसून। ऐसे अगर भारत विदेश निवेश और बाकी जीचों को बेहतर करने में सफल रहता है तो ठीक है वर्ना स्थिति और बिगडऩे के आसार दिखाई दे रहे हैं।

अब भारत पर ग्लोबल स्लोडाउन का असर 

डॉलर के मुकाबले रुपए का गिरना और ग्लोबल स्लोडाउन का असली असर अब भारत पर साफ दिखाई दे रहा है। अजय केडिया ने कहा कि बीते कुछ सालों से ग्लोबल स्लोडाउन और ट्रेड वॉर का पॉजिटिव इंपैक्ट भारत पर दिखाई दे रहा था। अब जितना फायदा भारत को मिलना था वो मिल चुका है। भारत की इकोनॉमी पर ग्लोबल स्लोडाउन का नेगेटिव इंपैक्ट दिखना शुरू हो गया है। अभी यह कम है। आने वाले दिनों में यह असर ज्यादा दिखेगा।



Summary
Article Name
India dreamed of becoming a $ 5 trillion economy; India slipped to seventh place in the Global GDP ranking
Description
भारत की सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी गिरने के बाद देश वैश्विक रैंकिंग में सातवें नंबर पर आ गया है। विश्व बैंक द्वारा वित्त वर्ष 2018 के आंकड़ों के मुताबिक, जीडीपी के मामले में ब्रिटेन और फ्रांस पांचवें और छठे स्थान पर पहुंच गए हैं। अमेरिकी अर्थव्यवस्था टॉप पर बनी हुई है। इसके बाद दूसरे पायदान पर चीन है। साल 2017 में भारत फ्रांस से आगे निकल गया था, लेकिन इस बार फिसल गया है।
Author
Publisher Name
The Policy Times