मुजफ्फरपुर कांड: बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने कोर्ट में किया सरेंडर, भेजी गईं जेल

आर्म्स एक्ट में फरार चल रहीं बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने बेगूसराय के मंझौल कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। उन्हें एक दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

0
muzaffarpur-kaand
4 Views

आर्म्स एक्ट में फरार चल रहीं बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने बेगूसराय के मंझौल कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। उन्हें एक दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

आर्म्स एक्ट मामले में फरार चल रहीं बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने एक गाड़ी में तीन लोगों के साथ आकर चुपचाप बेगूसराय जिले के मंझौल न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया है। मंजू वर्मा को पुलिस नहीं पकड़ सकी, वह कोर्ट से महज पांच किलोमीटर दूर नौलखा गांव में छिपी थीं और आज गांव से आकर कोर्ट में सरेंडर कर दिया।

मंजू वर्मा ने एसीजेएम प्रभात त्रिवेदी के न्यायालय में आत्मसमर्पण किया है। जानकारी के मुताबिक मंजू वर्मा कटघड़े में जैसे ही खड़ी हुईं, बेहोश हो गईं। सूत्रों के अनुसार, मंजू वर्मा मंझौल अनुमंडल के महेशवाडा पंचायत के नौलखा गांव में अपने पति चंद्रशेखर वर्मा की बुआ के घर में छिपी थीं ।

Related Article:

पुलिस एडीजी एसके सिंघल ने कहा कि पुलिस की दबिश की वजह से मंजू वर्मा ने सरेंडर किया है। पुलिस जो कहे लेकिन पुलिस की नाकामी साफ दिख रही है। मंजू वर्मा ने पुलिस की आंखों में धूल झोंककर आज अपनी मर्जी से सरेंडर किया है। पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकी थी। मंजू वर्मा को एक दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

जानकारी के मुताबिक आज सुबह ही मंजू वर्मा एक वाहन से तीन लोगों के साथ चुपचाप न्यायालय में पहुंची और आत्मसमर्पण किया। मंजू वर्मा सलवार-कुर्ता पहनीं हुई थीं और चेहरे को शॉल से ढंक रखा था। स्वास्थ्य जांच के बाद सब दुरुस्त पाया गया और मंजू वर्मा पुलिस बल के साथ बेगूसराय जेल भेजी गईं। कोर्ट रूम से बाहर निकलते वक्त मंजू वर्मा के समर्थकों के साथ पुलिस की धक्का-मुक्की हुई।

17 नवंबर को मंजू के घर की हुई थी कुर्की-जब्ती

17 नवंबर को मंजू वर्मा की पैतृक घर की कुर्की जब्ती की कार्रवाई बेगूसराय पुलिस ने शुरू की थी। मंजू के घर का एक-एक सामान को निकालकर ले गई। कोई हंगामा ना हो इसको लेकर भारी संख्या में सुरक्षा बलों को भी तैनात किया गया था।

17 अगस्त को चेरिया बरियारपुर थाना के श्रीपुर गांव में मंजू वर्मा के घर से छापेमारी में 50 अवैध कारतूस बरामद किया था। जिसके बाद चंद्रशेखर वर्मा और मंजू वर्मा के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। उसके बाद बेगूसराय और पटना हाई कोर्ट में दोनों ने अपनी अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की। लेकिन, कोर्ट ने जमानत याचिका को खारिज कर दिया था।

आर्म्स एक्ट में चल रही थीं फरार

बता दें कि आर्म्स एक्ट मामले में मंजू वर्मा फरार चल रही थीं और पुलिस सरगर्मी से उनकी तलाश कर रही थी। उनकी तलाश अन्य राज्यों में भी की जा रही थी। वहीं इस मामले में उनकी संपत्ति की कुर्की-जब्ती की भी कार्रवाई चल रही थी। पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने का प्रयास कर रही थी। लेकिन, आज उन्होंने पुलिस को चकमा देते हुए कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया है।

बताया जा रहा है कि कुर्की के बाद मंजू के खाता सीज होने वाला था। इसके कारण मंजू पर और दवाब बढ़ गया था। जिसके कारण मंजू ने सरेंडर करना ही बेहतर समझा। मंजू के फरार होने के कारण विपक्ष के बढ़ते दबाव के बाद जदयू ने भी पार्टी से उन्हें निलंबित कर दिया था।

Summary
muzaffarpur-kaand
Article Name
muzaffarpur-kaand
Description
आर्म्स एक्ट में फरार चल रहीं बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने बेगूसराय के मंझौल कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। उन्हें एक दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo