नई दिल्ली: कोरोना जांच की रफ्तार बढ़ाने के लिए अब टीबी की मशीनें होंगी इस्तेमाल आईसीएमआर ने दी जांच की मंजूरी

भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने अपनाई “इंटेलिजेंट टेस्टिंग स्ट्रेटेजी” कोरोना जांच को बढ़ाने के लिए अब सरकार करेगी टीबी मशीनों का इस्तेमाल, आईसीएमआर ने दी जांच की मंजूरी।

0

भारत देश में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी देखने को मिल रही हैं। बढ़ते मामलों के साथ रोज़ नए मरीज़ सामने आ रहे है जिसके चलते दिल्ली सरकार ने नए संक्रमण के मामलों को जल्दी सामने लाने के लिए नई रण नीति अपनाई है।

नई रण नीति के अनुसार टीबी की मशीनों के साथ कोविड-19 की जांच शुरू की जा चुकी हैं। किसी की सर्जरी होनी है, पोस्टमॉर्टम रुका हुआ है या डिलिवरी होने जैसे आपात कालीन मामले जिनमें कोविड की रिपोर्ट पर आगे के इलाज का फैसला निर्भर करता है उन मामलो के लिए भी यह कदम बहुत लाभ दाई रहेगा।

टीबी की मशीन से जांच के लिए सीबी नेट मशीन में कोविड जांच वाली कार्टेज लगाई गई है जिस से 40 से 50 के अंदर रिपोर्ट तैयार की जाती है। यह जांच बहुत ही सरल तरीके से संभव है।

मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबायोलॉजी विभाग की एचओडी डॉक्टर सोनल सक्सेना के अनुसार उनके कॉलेज में टीबी की मशीनों से कोविड की जांच शुरू की जा चुकी हैं। उनका कहना है कि इसके साथ कई अन्य टीबी अस्पतालों में भी इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। सोनल सक्सेना ने बताया की यह मशीन में एक बार में चार, आठ और सलाह सैंपल की जांच की क्षमता रखती हैं। परन्तु उनके कॉलेज की मशीनें केवल चार सैंपलो की जांच की क्षमता रखती हैं जिसके कारण इस मशीन का इस्तेमाल केवल आपात कालीन केस में कर रहे है।


आईसीएमआर के अनुसार अभी इसके अन्तर्गत आने वाले लैब 10,000 टेस्ट प्रतिदिन कर रहे हैं जिसे अगले 3 दिनों में 20,000 तक पहुंचाने की कोशिश रहेगी। एक आधिकारिक सूत्र का कहना है कि “इसके अलावा टीबी के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली 250 ट्रू नाट और 200 सीबी नाट से दिन में 12 टेस्ट किए जा सकते है। हमारे पास रोश कंपनी की 2 कोबास-6800 मशीनें हैं. हमने और 2 का ऑर्डर दिया है. इन मशीनों से प्रतिदिन 5,000 सैंपल की जांच की जा सकती है.”

नए प्लान में हाई रिस्क हॉटस्पॉट (जहां मामले तेजी से बढ़े हों) पर रैपिड ऐंटी बॉडीज टेस्ट करने की भी योजना है. इसके लिए बुधवार तक टेस्ट किट आ जाएंगे। एक अधिकारी का कहना हैं कि “ज्यादा टेस्ट संक्रमण को रोकने में सहायता करेंगे और मारीजो को सही समय पर इलाज मिल सकेगा” भारत में रविवार रात 9 बजे तक कोरोना के कुल 89,534 टेस्ट करे जा चुके थे।

Summary
Article Name
नई दिल्ली: कोरोना जांच की रफ्तार बढ़ाने के लिए अब टीबी की मशीनें होंगी इस्तेमाल आईसीएमआर ने दी जांच की मंजूरी
Description
भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने अपनाई “इंटेलिजेंट टेस्टिंग स्ट्रेटेजी” कोरोना जांच को बढ़ाने के लिए अब सरकार करेगी टीबी मशीनों का इस्तेमाल, आईसीएमआर ने दी जांच की मंजूरी।
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.