RBI : “बैंकों को बड़ी राहत, रिवर्स रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती”

RBI गवर्नर ने कहा कि वैश्विक मंदी के अनुमान के बीच भारत की विकास दर अब भी पॉजिटिव रहने का अनुमान है और IMF के मुताबिक यह 1.9 फीसद रहेगी।

0

RBI गवर्नर ने कहा कि वैश्विक मंदी के अनुमान के बीच भारत की विकास दर अब भी पॉजिटिव रहने का अनुमान है और IMF के मुताबिक यह 1.9 फीसद रहेगी।

देश में कोरोना संकट के बीच आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज बडी घोषणा करते हुआ कहा है कि वित्तीय हालत पर हमारी नजर है। आरबीआई गवर्नर ने कहा, “हमारे अधिकारी कोरोना से लड़ने में जुटे हुए हैं। देश की वित्तीय हालत पहले से बिगड़ी हुई है। वित्तीय नुकसान कम से कम हो यह हमारी कोशिश है। कोरोना वायरस की वजह से जीडीपी की रफ्तार 1.9 रहेगी। जी 20 देशों में यह सबसे बेहतर स्थिति है। दुनिया में 9 ट्रिलियन डॉलर का नुकसान होने का अनुमान है।

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि मार्च 2020 में निर्यात में भारी गिरावट आई है, इसके बावजूद विदेशी मुद्रा भंडार 476 अरब डॉलर का है जो 11 महीने के आयात के लिए काफी है। दुनिया में कच्चे तेल के दाम लगातार घट रहे हैं, जिससे हमें फायदा हो सकता है। आरबीआई गवर्नर ने कहा, “कोरोना संकट की वजह से देश की अर्थव्यवस्था की हालत काफी खराब है। लॉकडाउन की वजह से लगभग सभी तरह के कामधंधे बंद पड़े हैं और हर दिन 35 हजार करोड़ का नुकसान हो रहा है। लॉकडाउन के पहले चरण में ही देश की जीडीपी को करीब 8 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है।

आरबीआई गवर्नर ने किए ये ऐलान  : 

  • रिवर्स रेपो रेट में .25 प्रतिशत की कटौती का ऐलान
  • रिवर्स रेपो रेट को 0.25 प्रतिशत घटाकर 3.75 प्रतिशत किया गया,रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है।
  • नाबार्ड को 50 हजार करोड़ रुपये देने का ऐलानछोटो मध्य वित्तीय संस्थानों को लिए 50 हजार करोड़ रुपये
  • कमर्शियल रियल्टी प्रोजेक्ट लोन को 1 साल का एक्सटेंशन दिया जाएगा।
  • बैंक मुनाफे से अगले आदेश तक डिविडेंड नहीं देंगेनगदी बढ़ाने के लिए GDP के 3.2 प्रतिशत के बराबर नकदी सप्लाई की गई।
  • लॉकडाउन के कारण पावर डिमांड 25-30 फिसदी घटी।
  • नकदी संकट दूर करने के लिए बैंक की तरफ से बाजार में 50 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।

TLTRO के जरिए सिस्टम में 50,000 करोड़ रुपये: आरबीआई TLTRO के जरिए सिस्टम में 50,000 करोड़ रुपये डालेगा। गवर्नर ने कहा कि ATM 91 फीसद क्षमता के साथ काम कर रहे हैं। इसके अलावा लॉकडाउन में मोबाइल और नेटबैंकिंग में कोई परेशानी नहीं है। सिस्टम में लिक्विडिटी बनाए रखने के लिए आरबीआई ने नए कदमों का एलान किया। बैंक क्रेडिट फ्लो में छूट के लिए नए प्रस्तावों पर विचार किया गया। बता दें कि 27 मार्च के बाद लिक्विडिटी में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। स्टिल अकाउंट्स पर बैंकों को 10 फीसदी की प्रोविजनिंग मेनटेन करना होगा।

Summary
Article Name
RBI : “बैंकों को बड़ी राहत, रिवर्स रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती”
Description
RBI गवर्नर ने कहा कि वैश्विक मंदी के अनुमान के बीच भारत की विकास दर अब भी पॉजिटिव रहने का अनुमान है और IMF के मुताबिक यह 1.9 फीसद रहेगी।
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo