चुनावो में धर्म – जाति एक गंभीर समस्या

उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक आ रहे हैं। जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं। वैसे ही प्रत्याशियों के अनर्गल बयान आने शुरू हो गए हैं। चुनाव में धर्म जाति शब्द का खुल्लम खुल्ला प्रयोग हो रहा है।

0
चुनावो में धर्म – जाति एक गंभीर समस्या

देश आजाद होने के बाद कई सालों बाद तक चुनाव मुद्दों पर लड़ा जाता था। तब चुनावो मे सादगी होती थी ।प्रत्याशी एक दूसरे पर छींटाकशी नहीं करते थे ।बल्कि चुनाव इस मुद्दे पर होता था। भारत का भविष्य कैसा होना चाहिए सत्ताधारी दल के नेता अपना कोई पिछला काम नहीं गिनाते थे। बल्कि सत्ता में आकर हम क्या विकास करेंगे ! यह मुद्दा लेकर जनता के बीच जाते थे। वक्त के साथ-साथ चुनाव की सादगी खत्म होती चली गई और मुद्दों की जगह धर्म और जाति ने ले ली। प्रत्याशी जनता के बीच धर्म का जहर खोलने में कोई कसर नहीं छोड़ते चाहे वह कोई से भी दल से प्रत्याशी हो यह मायने नहीं रखता है। भारत की ताकत सभी धर्मों की एकता रही है।

Also Read: Staqu’s artificial intelligence technology to use to automate vote-counting in Bihar panchayat elections

आजादी से लेकर अब तक सभी धर्मों के लोगों ने भारत को श्रेष्ठ बनाने के लिए योगदान दिया है । इसमें सभी धर्मों के बहुत बड़े-बड़े विद्वानों ने अपने अपने क्षेत्र में योगदान दिया है। बहुत से शूरवीर देश की खातिर कुर्बान हो गए । भारत देश की एकता सभी धर्मों की एकता में ही है। धर्म का जहर घोलना आसान होता जा रहा है । जनता को मुद्दे से भटका कर धर्म और जाति के नाम पर लड़ाया जा रहा है। प्रत्याशी कम शिक्षित लोगों को धर्म जाति के नाम पर लड़ाते हैं ,और फायदा उठाते है जो प्रत्याशी धर्म और जाति के नाम पर जीतता है। उससे विकास की उम्मीद नहीं की जा सकती, क्योंकि वह धर्म के नाम पर जीता है ना कि विकास के नाम पर अब उससे विकास की उम्मीद करना बेमानी है। जनता को जागरूक होना होगा और जैसे जैसे लोग शिक्षित होते चले जाएंगे वैसे ही धर्म और जाति की राजनीति खत्म होती चली जाएगी। अदालते प्रत्याशीयो को इस बारे में चेतावनी दे चुके हैं लेकिन इनके कान पर कोई जूँ नहीं रेंगती ,इसके लिए कोई कानून बनाया जाना चाहिए।

जो प्रत्याशी भड़काऊ भाषण दे उसको चुनाव लड़ने से रोका जाए या उस प्रत्याशी पर कोई जुर्माने का प्रावधान होना चाहिए।

भारत एक शांतिप्रिय देश है ।ऐसे ही चुनावों में धर्म जाति की राजनीति होती रही, तो देश की शांति पर बहुत बड़ी चोट होगी जनता को चाहिए ,अपने क्षेत्र में उसी प्रत्याशी को ही विजय बनाएं जो क्षेत्र के लिए काम करें। चाहे वह किसी भी दल का हो।

सरकार कितनी भी अच्छी हो जब तक आपके क्षेत्र का प्रत्याशी शिक्षित और विकास करने वाला नही होगा । तब तक आपके क्षेत्र में विकास नहीं हो सकता है। आने वाले चुनाव में किसी भी दल को देखकर वोट ना दें यह देखकर वोट करे कि हमारे क्षेत्र में कौन सा प्रत्याशी अच्छा काम करेगा उसे ही वोट दें।

Summary
Article Name
चुनावो में धर्म - जाति एक गंभीर समस्या
Description
उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक आ रहे हैं। जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं। वैसे ही प्रत्याशियों के अनर्गल बयान आने शुरू हो गए हैं। चुनाव में धर्म जाति शब्द का खुल्लम खुल्ला प्रयोग हो रहा है।
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo