“औरंगाबाद में ट्रैक पर सोये प्रवासी मजदूरों के ऊपर से गुजरी ट्रेन, 17 की मौत”

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक दर्दनाक हादसे में 17 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई | औरंगाबाद जालना रेलवे लाइन (Jalna aurangabad railway line) पर ट्रैक के पास सो रहे इन मजदूरों के ऊपर से ट्रेन गुजर गई, जिसमें इनकी जान चली गई | 

0

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक दर्दनाक हादसे में 17 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई | औरंगाबाद जालना रेलवे लाइन (Jalna aurangabad railway line) पर ट्रैक के पास सो रहे इन मजदूरों के ऊपर से ट्रेन गुजर गई, जिसमें इनकी जान चली गई

शुक्रवार सुबह महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रेलवे ट्रैक पर सो रहे प्रवासी मजदूरों के ऊपर से मालगाड़ी गुजरने से बड़ा हादसा हो गया। पुलिस ने बताया की यह हादसा औरंगाबाद के करमद के पास सुबह 5.15 बजे हुआ है जिसमें 14 मजदूरों की मौत हो गई है, जबिक दो अन्य घायल हो गए हैं। घायलों को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। कर्माड पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि ये सभी मजदूर जालाना से भुसावल की ओर जा रहे थे। सभी को मध्य प्रदेश जाना था। उन्होंने कहा कि सभी रेलवे ट्रैक के किनारेकिनारे चल रहे थे। इसी दौरान थकान होने से वे रेलवे ट्रैक पर ही सो गए।

मृतकों के परिवारों को महाराष्ट्र सरकार ने 5-5 लाख रुपये की राहत राशि देने का एलान किया है। महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से कहा गया है, “करमद (औरंगाबाद) ट्रेन हादसे में मृतकों के परिवारों को 5 लाख रुपये की राहत राशि देने की घोषणा की गई है।गृह मंत्री अमित शाह ने भी प्रभावित परिवारों का संत्वना दी है। उन्होंने कहा, “महाराष्ट्र ट्रेन हादसे में गई प्रवासी मजदूरों की मौत पर दुख शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है।  उन्होंने रेल मंत्री पीयूष गोयल और केंद्र एवं रेलवे के संबंधित अधिकारियों से मामले में बात की है ताकि हर संभव मदद की जा सके हादसे में प्रभावित परिवारों के साथ मेरी सांत्वना है।

बता दें कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार ने मार्च महीने के अंतिम दिनों में लॉकडाउन का ऐलान किया था। इसके बाद लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर विभिन्न राज्यों में जहांतहां फंस गए थे। इसके बाद कई मजदूर पैदल ही घर के लिए निकल गए। हालांकि, तीसरे चरण का लॉकडाउन घोषित होने के बाद केंद्र सरकार ने मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुंचाने के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू किया है। रेलवे अभी तक एक लाख से भी ज्यादा मजदूरों को उनके घर तक पहुंचा चुकी है।

रेलवे मंत्रालय ने बताया कि पटरी पर कुछ लोगों को देखकर ड्राइवर ने ट्रेन को रोकने की कोशिश भी की लेकिन शायद ट्रेन इतनी स्पीड में थी को उसे रोक नहीं पाया और यह हादसा हो गया।  मंत्रालय ने बताया कि सुबह में मालगाड़ी के ड्राइवर ने दूर  देख लिया था कि कुछ प्रवासी मजदूर पटरी पर हैं। इस दौरान उसने ट्रेन को रोकने की पूरी कोशिश भी की लेकिन वह असफल रहा और ट्रेन उन लोगों पर चल गई। मत्रालय ने बताया कि घायलों को औरंगाबाद सिविल अस्पताल में भर्ती कर दिया गया है और इसके साथ ही घटना की जांच के आदेश भी दे दिए गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी रेल हादसे पर दुख व्यक्त किया था। पीएम मोदी ने कहा था, “महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रेल हादसे में जानमाल के नुकसान से बेहद दुखी हूं। रेल मंत्री पीयूष गोयल से बात की है और वह स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं। हर संभव सहायता प्रदान की जा रही है।

Summary
Article Name
"औरंगाबाद में ट्रैक पर सोये प्रवासी मजदूरों के ऊपर से गुजरी ट्रेन, 17 की मौत"
Description
महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक दर्दनाक हादसे में 17 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई | औरंगाबाद जालना रेलवे लाइन (Jalna aurangabad railway line) पर ट्रैक के पास सो रहे इन मजदूरों के ऊपर से ट्रेन गुजर गई, जिसमें इनकी जान चली गई | 
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo