ट्वीटर के लोक निति प्रमुख कोलिन क्रोवेल सोमवार को संसदीय समिति में होंगे पेश

0
0

माइक्रो ब्लॉग्गिंग साईट ट्वीटर के लोक निति प्रमुख कोलिन क्रोवेल सोमवार को संसदीय समिति के समक्ष पेश होंगे| इससे पहले सुचना प्रोद्योगिकी (आईटी) पर संसदीय समिति ने ट्विटर के प्रमुख जैक डोर्सी को 25 फरवरी को समिति के सामने पेश होने के लिए कहा था पर अब उनकी जगह कोलिन क्रोवेल पेश होंगे| यह बैठक ऐसे समय में हो रही है जब देश में लोगों की डेटा सुरक्षा और सोशल मीडिया मंचों के जरिए चुनावों में हस्तक्षेप को लेकर चिंताएं बढ़ रही हैं|

ट्विटर के प्रवक्ता ने ई-मेल से भेजे बयान में शुक्रवार को कहा, ‘हम सोशल मीडिया एवं ऑनलाइन न्यूज प्लेटफॉर्म्स पर नागरिकों के अधिकारों की सुरक्षा पर ट्विटर के विचार सुनने के लिए आमंत्रित करने के लिए संसदीय समिति का धन्यवाद करते हैं| उन्होंने कहा कि ट्विटर के लोक नीति विभाग के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष कोलिन क्रोवेल सोमवार को समिति के साथ बैठक करेंगे|

क्रॉवेल ने कहा है कि आगामी आम चुनाव उनकी कंपनी के लिए प्राथमिकता हैं| हम चुनाव प्रक्रिया की अखंडता का गहराई से सम्मान करते हैं और एक ऐसी सेवा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं जो लोकतांत्रिक बहस को बढ़ावा और मुक्त करने की सुविधा प्रदान करती है| 2019 लोकसभा चुनाव हमारी कंपनी के लिए एक प्राथमिकता है और हमारी समर्पित क्रॉस-फंक्शनल टीम इस महत्वपुर्ण समय में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है|

आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र राजनितिक दलों द्वारा में ट्विटर पर प्रचार करने वाले राजनीतिक विज्ञापनों के माध्यम से बाहरी दखल को रोकने के लिए पिछले साल सोशल मीडिया ट्विटर ने कई नए दिशा-निर्देश लागू किए थे|

सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर ने ऑस्ट्रेलिया, यूरोप और इंडिया में पॉलिटिकल ऐड ट्रैकिंग टूल लॉन्च किया था ताकि इसकी मदद से यूजर पॉलिटिकल विज्ञापनों की सत्यता को जान सके| बीते काफी समय से फेसबुक, वॉट्सऐप और ट्विटर पर फेक न्यूज पर रोक लगाने के लिए दबाव बनाया जा रहा था| अब यूजर ट्विटर के ट्रांसपरेंसी सेंटर पर विज्ञापन सत्यता की जांच कर सकेंगे|

ट्वीटर के अलावा फेक न्यूज पर लगाम लगाने के लिए हाल ही में वॉट्सऐप ने भी फॉरवर्ड फीचर को बस पांच कॉन्टैक्ट्स तक लिमिट कर दिया था जिससे एक ही मेसेज पांच से ज्यादा लोगों को फॉरवर्ड न किया जा सके| अब 2019 लोकसभा चुनाव से पहले वॉट्सऐप की जिम्मेदारी भी बढ़ गई है| वॉट्सऐप ने जानकारी दी है कि किस तरह बल्क और ऑटोमेटेड मेसेजेस की प्रॉब्लम को मशीन लर्निंग की मदद से कंपनी दूर कर रही है और ऐक्शन ले रही है|

बता दें कि ट्वीटर पर हाल ही में आरोप लगा था कि वह यूजर्स द्वारा शेयर किए गए के मेसेज को स्टोर करती है| हाल ही में जारी की गई एक ऑनलाइन रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्विटर अपने यूजर्स के मेसेज को लंबे समय तक स्टोर करके रखती है और इनमें वे मेसेज भी शामिल हैं जिन्हें यूजर्स डिलीट कर देते हैं| इसके साथ ही ट्विटर उन डेटा को भी स्टोर करती है जो डिलीट हुए अकाउंट्स द्वारा कभी शेयर या रिसीव किए गए थे|