यूजीसी ने जारी किए नए दिशा निर्देश: सितम्बर के अंत से होगी फाइनल ईयर छात्रों की परीक्षा

कोरोना वायरस महामारी के कारण परीक्षाएं लेना हुआ मुश्किल। मार्च में लिए जाने वाले थे एग्जाम। महामारी से बचाव के लिए हरियाणा, महाराष्ट्र, उड़िशा एवम् मध्य प्रदेश जैसे अन्य शहरों में फाइनल ईयर कि परीक्षाएं ना लेने का निर्देश जारी किया गया था। परन्तु सोमवार शाम को यूजीसी ने जारी किए नए निर्देश।

0
UGC issued fresh guidelines, final year exams to be conducted by September end. the policy times

यूजीसी मेम्बर्स का कहना है कि जिन शहरों में फाइनल ईयर की परीक्षाएं रध की गई थी उन शहरों में भी सितंबर अंत में ली जाएंगी परीक्षाएं।

कोरोना वायरस महामारी के कारण परीक्षाएं लेना हुआ मुश्किल। मार्च में लिए जाने वाले थे एग्जाम। महामारी से बचाव के लिए हरियाणा, महाराष्ट्र, उड़िशा एवम् मध्य प्रदेश जैसे अन्य शहरों में फाइनल ईयर कि परीक्षाएं ना लेने का निर्देश जारी किया गया था। परन्तु सोमवार शाम को यूजीसी ने जारी किए नए निर्देश।यूजीसी ने जारी किए नए दिशा निर्देश : सितम्बर के अंत से होगी फाइनल ईयर छात्रों की परीक्षा. the policy times

यूजीसी के नए निर्देशों के अनुसार फाइनल ईयर कि परीक्षाएं लेना हुआ “अनिवार्य” कहा सितंबर अंत में ली जाएंगी परीक्षाएं। गाइडलाइंस के अनुसार सितंबर अंत में परीक्षाएं लिखित रूप से ली जाएंगी यदि वह संभव नहीं हुआ तो ऑनलाइन रूप से भी ली जा सकती हैं परीक्षाएं। ऐसा भी हो सकता है कि परीक्षाएं दोनों रूप से ली जाए। फर्स्ट और सेकंड ईयर के छात्रों के लिए नहीं बदला फैसला।

यूजीसी का कहना हैं कि “यूनिवर्सिटीज को छात्रों कि सेहत और सुरक्षा को अहम महत्व देना चाहिए और एग्जाम लेते दौरान कोराना वायरस से बचाव के लिए सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का सकती से पालन करना चाहिए”। कमीशन का कहना हैं कि वह कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न हुई समस्याओं के समाधान हेतु निरंतर प्रयास कर रही है। जल्द ही छात्रों और शिक्षकों की परेशानियों का समाधान होगा।


महामारी से बचाव के लिए इस समय स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है लेकिन साथ ही साथ अकादमिक क्रेडिबिलिटी का रक्षण करना भी उतना ही अनिवार्य है। अकादमिक क्रेडिबिलिटी के रक्षण हेतु यूजीसी ने संशोधित कैलंडर जारी किया है। नए कैलंडर के अनुसार एडमिशन की प्रक्रिया नवंबर तक चलेगी और क्लासें १ दिसंबर २०२० से प्रारंभ की जाएंगी।

जो छात्र किसी कारण वश परीक्षा में उपस्थित नहीं हो सकते उन छात्रों के लिए यूजीसी ने यूनिवर्सिटीज को विशेष रूप से परीक्षा लेने की सलाह दी है। यह स्पेशल परीक्षा महामारी के हालात सुधरने के बाद कभी भी ली जा सकती हैं। यूजीसी का कहना हैं कि भारत में कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए यह आवश्यक है कि छात्रों की सेहत, सुरक्षा एवम् समान अवसरों को सुरक्षित रखा जाए। इसी के साथ यह भी आवश्यक है कि इस गंभीर समय में छात्रों के व्यवसाय और भविष्य प्रगति की और भी ध्यान दिया जाए। हर शिक्षा प्रणाली के लिए अकेडमिक एवल्युएशन बहुत मायने रखता है।

Summary
Article Name
यूजीसी ने जारी किए नए दिशा निर्देश : सितम्बर के अंत से होगी फाइनल ईयर छात्रों की परीक्षा
Description
कोरोना वायरस महामारी के कारण परीक्षाएं लेना हुआ मुश्किल। मार्च में लिए जाने वाले थे एग्जाम। महामारी से बचाव के लिए हरियाणा, महाराष्ट्र, उड़िशा एवम् मध्य प्रदेश जैसे अन्य शहरों में फाइनल ईयर कि परीक्षाएं ना लेने का निर्देश जारी किया गया था। परन्तु सोमवार शाम को यूजीसी ने जारी किए नए निर्देश।
Author
Publisher Name
THE POLICY TIMES
Publisher Logo

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.